Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 2 min read

श्री हनुमत् कथा भाग-1

आज से प्रत्येक मंगलवार को हनुमत् कथा -भाग-1
एकवार रावण के अत्याचार को समाप्त करने के लिए देवताओं ने सभा की जिसमें भगवान विष्णु ने कहा कि मैं दशरथ के पुत्र -राम के रूप में अवतार लूँगा और पृथ्वी को राक्षसों के अत्याचार एवं आतंक से मुक्त करके धर्म की स्थापना करूँगा ।भगवान् शिव से जब यह पूछा गया कि वे किस प्रकार सहायता करेंगे क्योंकि रावण ने अपने दशशीश समर्पित करके भगवान शिव के दश रूपों को प्रसन्न कर लिया है।तव शिव ने कहा कि रावण ने मेरे दश रूपों को ही प्रसन्न किया है। अभी मेरा ग्यारह वाँ रुद्रावतार अप्रसन्न है। मैं उसी रूप से सहायता करूँगा ।
इसी उद्देश्य से लीलाधर भगवान शिव भगवान विष्णु के पास-क्षीरसागर पहुँचे और बोले -हे भगवन्! मैंने समुद्रमन्थन के समय आपके मोहिनी रूप को नहीं देखा क्योंकि उस समय समुद्रमन्थन से उत्पन्न हलाहल बिष का पान कर लिया था ।इसलिए आपके उस रूप को देखना चाहता हूँ ।भगवान विष्णु बोले -हे कामारि!आप तो काम को भी भष्म करनेवाले हैं ।परन्तु आपका यह कामी रूप किसी बिशेष लीला करने के उद्देश्य से प्रकट हो रहाहै।तभी वहाँ सुन्दर से उद्यान में गैंद से खेलती हुई एक नवयौवना सुन्दरी प्रकट हुई जो कामी शिव को अपनी ओर आकर्षित करती हुई आगे चल रही थी। शिव कामी की तरह उसके पीछे दौड़े और मार्ग में उनका वीर्यपात हो जिसे वायुदेव ने कर्णमार्ग से माँ अंजना की कुक्षि में स्थापित कर दिया जिससे परम वलवन्त श्री हनुमन्त लाल का जन्म हुआ ।
शेष अगले अंक में
बोलो बजरंग बली की जय

Language: Hindi
277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनमोल वचन
अनमोल वचन
Jitendra Chhonkar
दोहे ( किसान के )
दोहे ( किसान के )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है
जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
DrLakshman Jha Parimal
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ #गीत :-
■ #गीत :-
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-497💐
💐प्रेम कौतुक-497💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन मेरे तू सावन सा बन....
मन मेरे तू सावन सा बन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*उनकी है शुभकामना,मेरा बंटाधार (हास्य कुंडलिया)*
*उनकी है शुभकामना,मेरा बंटाधार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🌹खिला प्रसून।
🌹खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
The Earth Moves
The Earth Moves
Buddha Prakash
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
कैसी
कैसी
manjula chauhan
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
🫴झन जाबे🫴
🫴झन जाबे🫴
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"बोलते अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
ईश्वर के सम्मुख अनुरोध भी जरूरी है
Ajad Mandori
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
गाँव सहर मे कोन तीत कोन मीठ! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
Loading...