Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2024 · 1 min read

श्री राम

!! श्रीं!!
जय सियाराम !
🙏
अमर चौबीस की बाईस यह प्रभु जनवरी है अब ,
जलेंगी दीप मालाए्ँ मनायेंगे दिवाली सब,
कटेंगे कष्ट सारे! रामजी का राज्य अब होगा,
झरेगा नेह तो होगा सुखी संसार सारा तब !
***
राधे…राधे…!
***
महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा !
🧚‍♂️🦚🧚🏽‍♂️

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
Ramal musaddas saalim
Ramal musaddas saalim
sushil yadav
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
2964.*पूर्णिका*
2964.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या ख़ूब तरसे हैं हम उस शख्स के लिए,
क्या ख़ूब तरसे हैं हम उस शख्स के लिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल
पंचतत्वों (अग्नि, वायु, जल, पृथ्वी, आकाश) के अलावा केवल "हृद
Radhakishan R. Mundhra
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
खेल सारा वक्त का है _
खेल सारा वक्त का है _
Rajesh vyas
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
रिश्ते सालों साल चलते हैं जब तक
Sonam Puneet Dubey
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
சிந்தனை
சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
"" *तस्वीर* ""
सुनीलानंद महंत
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
~ हमारे रक्षक~
~ हमारे रक्षक~
करन ''केसरा''
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Madhu Shah
उसकी सुनाई हर कविता
उसकी सुनाई हर कविता
हिमांशु Kulshrestha
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
हटा लो नजरे तुम
हटा लो नजरे तुम
शेखर सिंह
मन की डोर
मन की डोर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
असर हुआ इसरार का,
असर हुआ इसरार का,
sushil sarna
"व्यवहार"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...