Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 28, 2016 · 1 min read

श्रीनगर में 8 सैनिकों के शहीद होने पर

आठ के बदले अट्ठाइस को जिन्दा ही जब गाड़ेंगे ।
तब ही दिल को चैन मिलेगा वर्दी तभी उतारेंगे ।
सर कफ़न बांधकर निकली है अब हिन्द की सेना ,
मारेंगे अरि को बीन बीन या कफ़न तिरंगा धारेंगे ।

वीर पटेल

1 Comment · 249 Views
You may also like:
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Neha Sharma
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
अनामिका के विचार
Anamika Singh
बोझ
आकांक्षा राय
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
आतुरता
अंजनीत निज्जर
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
Loading...