Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

शेर

मोहब्बत संजीदगी से अदा की जब मैंने उनसे।
हश्र में एक पलंग मिला शहर के अस्पताल में।।

तबस्सुम उनके चेहरे का छिपाए ना छिप सका।
वो समझते हैं मोहब्बत दफन हो गई कब्रिस्तान में।।

जलवा खूबसूरती का दिखाने आये ले गुलदस्ता हाथों में।
छिड़क गए वो नमक मेरे जख्मों पर
अस्पताल में।।

इश्क में पगलाए थे हम इस कदर क्या बतलायें अब।
मरहम समझ मुस्कुरा दिए इस मोहब्बत के जंजाल में।।

Language: Hindi
169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
जागृति
जागृति
Shyam Sundar Subramanian
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
उम्मीद का दामन।
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
"अब भी"
Dr. Kishan tandon kranti
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पग मेरे नित चलते जाते।
पग मेरे नित चलते जाते।
Anil Mishra Prahari
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पितृ दिवस ( father's day)
पितृ दिवस ( father's day)
Suryakant Dwivedi
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
सत्य केवल उन लोगो के लिए कड़वा होता है
Ranjeet kumar patre
बच्चा हो बड़ा हो,रिश्ता हो परिवार हो ,पैसा हो करियर हो
बच्चा हो बड़ा हो,रिश्ता हो परिवार हो ,पैसा हो करियर हो
पूर्वार्थ
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
अनुभूति, चिन्तन तथा अभिव्यक्ति की त्रिवेणी ... “ हुई हैं चाँद से बातें हमारी “.
Dr Archana Gupta
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जो चाहते थे पा के भी तुम्हारा दिल खुशी नहीं।
जो चाहते थे पा के भी तुम्हारा दिल खुशी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
गुरुदेव आपका अभिनन्दन
Pooja Singh
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
Anup kanheri
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
*नारी है अबला नहीं, नारी शक्ति-स्वरूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"बड़बोलापन यूं बना देख कोढ़ में खाज।
*प्रणय प्रभात*
Style of love
Style of love
Otteri Selvakumar
मशीन कलाकार
मशीन कलाकार
Harish Chandra Pande
Happy Father's Day
Happy Father's Day
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
3297.*पूर्णिका*
3297.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
हिंदी दिवस पर एक आलेख
हिंदी दिवस पर एक आलेख
कवि रमेशराज
Loading...