Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 20, 2017 · 1 min read

शेर

फाँसले तो बहुत रहे हमारे दरमियाँ फिर भी हम
एक ही सिक्के के दो पहलू बनकर साथ जीते रहें
-पंकज त्रिवेदी

123 Views
You may also like:
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का दर्द
Nitu Sah
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
या इलाही।
Taj Mohammad
शायद...
Dr. Alpa H. Amin
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*पंडित ज्वाला प्रसाद मिश्र और आर्य समाज-सनातन धर्म का विवाद*
Ravi Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
कोहिनूर
Dr.sima
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
परदेश
DESH RAJ
वक्त ए नमाज़ है।
Taj Mohammad
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
पिता का सपना
श्री रमण
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
धर्म
Vijaykumar Gundal
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
Loading...