Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2023 · 1 min read

शुभ प्रभात मित्रो !

शुभ प्रभात मित्रो !
हम सदैव प्रभु से कामना या याचना करते रहते हैं । कभी उनको निस्वार्थ भाव से स्मरण करके भी देखें, कैसे आनंद की अनुभूति होती है ।
जय श्री राधेकृष्ण !

211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahesh Jain 'Jyoti'
View all
You may also like:
"अजब-गजब मोहब्बतें"
Dr. Kishan tandon kranti
भाषा
भाषा
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
विद्यादायिनी माँ
विद्यादायिनी माँ
Mamta Rani
हमनें अपना
हमनें अपना
Dr fauzia Naseem shad
कवि की कल्पना
कवि की कल्पना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
हम वो फूल नहीं जो खिले और मुरझा जाएं।
Phool gufran
💐प्रेम कौतुक-283💐
💐प्रेम कौतुक-283💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
अपनों का साथ भी बड़ा विचित्र हैं,
Umender kumar
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मा शारदा
मा शारदा
भरत कुमार सोलंकी
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
आजा रे अपने देश को
आजा रे अपने देश को
gurudeenverma198
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
डॉ. नामवर सिंह की दृष्टि में कौन-सी कविताएँ गम्भीर और ओजस हैं??
कवि रमेशराज
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
अंग्रेजों के बनाये कानून खत्म
Shankar N aanjna
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
राम
राम
Sanjay ' शून्य'
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
व्यथा
व्यथा
Kavita Chouhan
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
Loading...