Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Dec 2022 · 1 min read

शीत लहर

रहते हो हमेशा गरम
उमस भरे माहौल में
देखो आज तुम्हारे बीच
शीत लहर आई है

जानता हूं ये बात तैयार नहीं हो
तुम इसके लिए आज भी
लेकिन ये तो हर बरस की तरह
समय पर आई है इस बार भी

ओढ़ लो कंबल
कर लो रज़ाई का इंतज़ाम
आग सेकते हुए ही
अब करना दिनभर आराम

ले लिया अगर तुमको
अपने आहोश में इसने
उठ नहीं पाया कई दिनों तक वो
सामना किया उसका जिसने

तुम तो अनजान हो इससे
जाने कैसे पकड़ लेगी तुम्हें
पूछ लेना पहाड़ के लोगों से
वो ही ये बता पाएंगे तुम्हें

सूरज के दर्शन तो होते नहीं
पहले से ही कभी तुम्हें
अब इस कोहरे में छुपकर
शीत लहर सताएगी तुम्हें

होगा उनका क्या अब
सर पर नहीं है कोई छत जिनके
सोते है फुटपाथ पर ही
रजाई कंबल नहीं है पास जिनके।

Language: Hindi
8 Likes · 2 Comments · 736 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
..........?
..........?
शेखर सिंह
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक भ्रम है, दोस्त,
पूर्वार्थ
जिसका समय पहलवान...
जिसका समय पहलवान...
Priya princess panwar
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़माना
ज़माना
अखिलेश 'अखिल'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
मुक़ाम क्या और रास्ता क्या है,
SURYA PRAKASH SHARMA
बिन बोले ही  प्यार में,
बिन बोले ही प्यार में,
sushil sarna
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"बात सौ टके की"
Dr. Kishan tandon kranti
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
बुरा न मानो होली है (हास्य व्यंग्य)
बुरा न मानो होली है (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विचार मंच भाग -7
विचार मंच भाग -7
डॉ० रोहित कौशिक
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
परिभाषाएं अनगिनत,
परिभाषाएं अनगिनत,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संघर्ष........एक जूनून
संघर्ष........एक जूनून
Neeraj Agarwal
#Dr Arun Kumar shastri
#Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Loading...