Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2023 · 1 min read

शीत ऋतु

आया मौसम शीत का ,गर्मी दूर भगाय।
जाड़े से बचना सभी, जब मौसम अति भाय।
जब मौसम अति भाय,कटे रातें सब प्यारी।
पहनें हों परिधान ,धूप की महिमा न्यारी।
कहें प्रेम कविराय, गरम व्यंजन सब भाया।
शोभित सब्जी साग , भोज का मौसम आया।
डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
-- प्यार --
-- प्यार --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"मैं एक कलमकार हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
😊अनुरोध😊
😊अनुरोध😊
*प्रणय प्रभात*
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
नेता जी
नेता जी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
71
71
Aruna Dogra Sharma
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
तेरी मौजूदगी में तेरी दुनिया कौन देखेगा
Rituraj shivem verma
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चंद दोहा
चंद दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
प्रेमिका को उपालंभ
प्रेमिका को उपालंभ
Praveen Bhardwaj
ज़माने ने मुझसे ज़रूर कहा है मोहब्बत करो,
ज़माने ने मुझसे ज़रूर कहा है मोहब्बत करो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
बचपन और गांव
बचपन और गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पीड़ा
पीड़ा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
रेत सी जिंदगी लगती है मुझे
Harminder Kaur
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
Health, is more important than
Health, is more important than
पूर्वार्थ
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
ये उदास शाम
ये उदास शाम
shabina. Naaz
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
पिता
पिता
Shashi Mahajan
रोटियों के हाथों में
रोटियों के हाथों में
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...