Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2021 · 1 min read

शिशिर ऋतु-१

सिहर-सिहर उठे- उठे तन मन मोरा
शिशिर की रौनक बढ़ने लगी है।
हाथ पैर तीड़े- तीड़े मानो सब पीड़े -पीड़े
चमचम रुखी काया होने लगी है।
नीर- नीर ठण्डा- ठण्डा लगे सब हिम -हिम
ठण्डी -ठण्डी पवन भी चलने लगी है।
शीशी- शीशी करती हुई शीत ऋतु आई अब
विष्णु कण्ठ ठण्डक भरने लगी है।

-विष्णु प्रसाद ‘पाँचोटिया’

्््््््््््््््््््््््््््््््््््

3 Likes · 2 Comments · 622 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब क्या करे?
अब क्या करे?
Madhuyanka Raj
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर समस्त नारी शक्ति को सादर
*प्रणय प्रभात*
छपास रोग की खुजलम खुजलई
छपास रोग की खुजलम खुजलई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चाहती हूं मैं
चाहती हूं मैं
Divya Mishra
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
मोहब्बत की राहों मे चलना सिखाये कोई।
Rajendra Kushwaha
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
*सरस रामकथा*
*सरस रामकथा*
Ravi Prakash
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
आशियाना
आशियाना
Dipak Kumar "Girja"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
‘पितृ देवो भव’ कि स्मृति में दो शब्द.............
Awadhesh Kumar Singh
जनता हर पल बेचैन
जनता हर पल बेचैन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
हवाओं से कह दो, न तूफ़ान लाएं
Neelofar Khan
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
बाजार
बाजार
surenderpal vaidya
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
काम न आये
काम न आये
Dr fauzia Naseem shad
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Loading...