Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

शिव

बम बम भोले नाथ की,महिमा अपरंपार
गले सर्प की माल है, शीश गंग की धार
शीश गंग की धार,भाल पर चंद्र विराजे
हाथों में त्रिशूल, डमाडम डमरू बाजे
कहे ‘अर्चना’ बात, भक्त गाते हैं बम बम
आई है शिवरात्रि, मनाएं श्रद्धा से हम

18-2-2023
डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक औरत की ख्वाहिश,
एक औरत की ख्वाहिश,
Shweta Soni
पैसा अगर पास हो तो
पैसा अगर पास हो तो
शेखर सिंह
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
बीता कल ओझल हुआ,
बीता कल ओझल हुआ,
sushil sarna
तू बढ़ता चल....
तू बढ़ता चल....
AMRESH KUMAR VERMA
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
फितरत
फितरत
Anujeet Iqbal
आदमी
आदमी
अखिलेश 'अखिल'
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लड़ाई
लड़ाई
Dr. Kishan tandon kranti
थप्पड़ एक किसान का खाकर
थप्पड़ एक किसान का खाकर
Dhirendra Singh
फूल तो फूल होते हैं
फूल तो फूल होते हैं
Neeraj Agarwal
साड़ी हर नारी की शोभा
साड़ी हर नारी की शोभा
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ कड़ा सवाल ■
■ कड़ा सवाल ■
*प्रणय प्रभात*
(कहानी)
(कहानी) "सेवाराम" लेखक -लालबहादुर चौरसिया लाल
लालबहादुर चौरसिया लाल
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
Vindhya Prakash Mishra
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
अपनों की महफिल
अपनों की महफिल
Ritu Asooja
क्या ईसा भारत आये थे?
क्या ईसा भारत आये थे?
कवि रमेशराज
आंखों में तिरी जाना...
आंखों में तिरी जाना...
अरशद रसूल बदायूंनी
सच्चाई है कि ऐसे भी मंज़र मिले मुझे
सच्चाई है कि ऐसे भी मंज़र मिले मुझे
अंसार एटवी
जरूरी और जरूरत
जरूरी और जरूरत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
गांधी के साथ हैं हम लोग
गांधी के साथ हैं हम लोग
Shekhar Chandra Mitra
Loading...