Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2021 · 2 min read

शिव दोहा एकादशी

हरदम ही जपते रहो, क्या दिवस सुबह-शाम
डमरू वाले देव श्री, शिव-शंकर का नाम //1.//

शिव-शंकर के नाम से, मुक्ति मिले हर धाम
सब देवों में देव यह, पूजो आठों याम //2.//

महादेव को दूध में, चढ़े बेल-ओ-भंग
भक्त भाव में डूबते, बजने लगे मृदंग //3.//

चाहे कोई लोक हो, या हो कोई द्वार
शिव शंकर वो देवता, करते जो उद्धार //4.//

प्रसन्न हो यदि देव तो, खूब करें उपकार
रुष्ट हो महाकाल तो, कर देते संहार //5.//

गंगाजल शिवलिंग पर, चढ़ा करें अभिषेक
सावन में कांवर लिये, आते भक्त अनेक //6.//

भोले के दर पर रमो, हो मन से अभिषेक
सबका ही कल्याण हो, काज करो सब नेक //7.//

सर्प गले, नन्दी निकट, त्रिशूल-डमरू द्वार
गणपति-ओ-माँ पार्वती, भोले का परिवार //8.//

नाग गले, गंगा जटा, डमरू और त्रिशूल
नीलकण्ठ विषपान कर, संकट हरे समूल //9.//

खूब भांग घोटी पिए, तन में भस्म रमाय
भक्तों में मदमस्त यूँ, महादेव कहलाय //10.//

सोने की लंका* तजी, सुख से है परहेज
परवत में कैलाश के, सन्यासी का तेज //11.//

रिश्ता क्या इस्लाम का, काँशी वापी ज्ञान
नगर मन्दिरों का यहाँ, शिव का यह वरदान

____________
*शिव पुराण के अनुसार माँ पार्वती के आग्रह पर उनके लिए भगवान शिव ने विश्वकर्मा व कुबेर से मिलकर समुद्र के बीचों-बीच “सोने की लंका” का निर्माण करवाया था। इसका ज़िक्र रामायण में भी मिलता है। एक बार रावण अपने पुष्पक विमान में बैठकर “सोने की लंका” के ऊपर से गुजरा तो वह “लंका” देखकर मोहित हो गया। लंका को पाने के लिए दैत्य कुल में जन्मे रावण ने तत्काल एक ब्राह्मण का रुप धारण किया और भगवान शिव के पास पहुंचा और भगवान से भिक्षा में “सोने की लंका” मांगी। भगवान शंकर पहले ही समझ गये थे कि यह ब्राह्मण के रुप में रावण है। लेकिन वह उसे खाली हाथ नहीं लौटाना चाहते थे। सो उन्होंने “सोने की लंका” रावण को दान की। जब माँ पार्वती जी को यह बात पता चली तो वह बहुत नाराज हुईं और उन्होंने क्रोधित होकर कहा कि “सोने की लंका” एक दिन जलकर भस्म होगी। इस श्राप के कारण हनुमान जी ने लंका में आग लगाकर उसे राख कर दिया था।

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 1995 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
"ये कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
■ सड़ा हुआ फल ताज़ा नहीं हो सकता। बिगड़ैल सुधर नहीं सकते। जब तक
■ सड़ा हुआ फल ताज़ा नहीं हो सकता। बिगड़ैल सुधर नहीं सकते। जब तक
*प्रणय प्रभात*
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
Keshav kishor Kumar
शाश्वत और सनातन
शाश्वत और सनातन
Mahender Singh
माँ का प्यार है अनमोल
माँ का प्यार है अनमोल
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मेहनत
मेहनत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
कुछ लोग घूमते हैं मैले आईने के साथ,
Sanjay ' शून्य'
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** सावन चला आया **
** सावन चला आया **
surenderpal vaidya
बात क्या है कुछ बताओ।
बात क्या है कुछ बताओ।
सत्य कुमार प्रेमी
मै नर्मदा हूं
मै नर्मदा हूं
Kumud Srivastava
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
दुनिया की अनोखी पुस्तक सौरभ छंद सरोवर का हुआ विमोचन
दुनिया की अनोखी पुस्तक सौरभ छंद सरोवर का हुआ विमोचन
The News of Global Nation
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
अर्थ में प्रेम है, काम में प्रेम है,
Abhishek Soni
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
गुमनाम 'बाबा'
चांद का टुकड़ा
चांद का टुकड़ा
Santosh kumar Miri
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक पल सुकुन की गहराई
एक पल सुकुन की गहराई
Pratibha Pandey
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
संगीत में मरते हुए को भी जीवित करने की क्षमता होती है।
Rj Anand Prajapati
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/249. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...