Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।

शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
आएंगे पढ़ने कभी, घट घट वासी राम।।
चढ़ी उमर अवसान की, क्यों मैं मानूँ हार
कदमों में इतिहास है, साँसों से संग्राम।।

सूर्यकांत

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तारीफ तेरी, और क्या करें हम
तारीफ तेरी, और क्या करें हम
gurudeenverma198
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भूल चुके हैं
भूल चुके हैं
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
सुबह सुहानी आ रही, खूब खिलेंगे फूल।
surenderpal vaidya
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
बदली-बदली सी तश्वीरें...
बदली-बदली सी तश्वीरें...
Dr Rajendra Singh kavi
■विरोधाभास■
■विरोधाभास■
*प्रणय प्रभात*
राम जपन क्यों छोड़ दिया
राम जपन क्यों छोड़ दिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*दादी चली गई*
*दादी चली गई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
जीवन का एक और बसंत
जीवन का एक और बसंत
नवीन जोशी 'नवल'
संवेदना(फूल)
संवेदना(फूल)
Dr. Vaishali Verma
मुक्तक...छंद पद्मावती
मुक्तक...छंद पद्मावती
डॉ.सीमा अग्रवाल
"जोड़-घटाव"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
Loading...