Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2017 · 1 min read

!! शायरी !!

सही काम करने वाले के दुश्मन हो जाते हैं लोग
न जाने क्या क्या बातें बना ही देते हैं लोग
सही काम करने की शैली पर पल में अंगुली उठा देते हैं लोग
खुद कैसे करेंगे, इस बात को कभी भी नहीं सोचते हैं लोग !!

सच का सामना करने से घबरा जाते हैं लोग
झूठ के हर रूप में लिप्त रहते हैं सदा लोग
चाहते हैं की हम जैसे ही बन जाएँ सब लोग
ताकि उनकी मनमानी से घुलता रहे उनका मेलजोल !!

अजीत तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: शेर
317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
भगवान भी रंग बदल रहा है
भगवान भी रंग बदल रहा है
VINOD CHAUHAN
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
श्री राम भक्ति सरिता (दोहावली)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
पिता की इज़्ज़त करो, पिता को कभी दुख न देना ,
पिता की इज़्ज़त करो, पिता को कभी दुख न देना ,
Neelofar Khan
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
Stop getting distracted by things that have nothing to do wi
पूर्वार्थ
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*बरसात (पाँच दोहे)*
*बरसात (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
■ सुबह की सलाह।
■ सुबह की सलाह।
*प्रणय प्रभात*
ज्यादा अच्छा होना भी गुनाह है
ज्यादा अच्छा होना भी गुनाह है
Jogendar singh
खामोस है जमीं खामोस आसमां ,
खामोस है जमीं खामोस आसमां ,
Neeraj Mishra " नीर "
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
shabina. Naaz
आई तेरी याद तो,
आई तेरी याद तो,
sushil sarna
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
DrLakshman Jha Parimal
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
हर शेर हर ग़ज़ल पे है ऐसी छाप तेरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Love
Love
Kanchan Khanna
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गीतिका और ग़ज़ल
गीतिका और ग़ज़ल
आचार्य ओम नीरव
जैसे पतझड़ आते ही कोयले पेड़ की डालियों को छोड़कर चली जाती ह
जैसे पतझड़ आते ही कोयले पेड़ की डालियों को छोड़कर चली जाती ह
Rj Anand Prajapati
........,
........,
शेखर सिंह
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...