Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

शायरी

वो महफ़िल नहीं कुछ काम की, जहाँ तेरा जिक्र न हो
में बैठा रहू यहाँ बेखबर और तेरी मुझ को फ़िक्र न हो
ऐसा तो दिल नहीं मेरा , कि इस दिल से खेला जाये
ठोकर लगे तुझ को जरा सी, और मेरे सीने में हलचल न हो जाये !!

अकेले चलने का अंदाज , मैने खुद ही पाया है
रूकना और रूक के फिर बढ़ना, खुद को सिखाया है
तूफानों का काम है, कि रोक दो रास्ता सभी का
मैने तो तूफानों के बीच से अपना रास्ता बनाया है !!

अजीत

Language: Hindi
Tag: शेर
449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
from under tony's bed - I think she must be traveling
from under tony's bed - I think she must be traveling
Desert fellow Rakesh
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
#बस_छह_पंक्तियां
#बस_छह_पंक्तियां
*Author प्रणय प्रभात*
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
3222.*पूर्णिका*
3222.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
करे मतदान
करे मतदान
Pratibha Pandey
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
मानव हमारी आगोश में ही पलते हैं,
Ashok Sharma
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
*नई सदी में चल रहा, शिक्षा का व्यापार (दस दोहे)*
Ravi Prakash
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते  कहीं वे और है
जानना उनको कहाँ है? उनके पते मिलते नहीं ,रहते कहीं वे और है
DrLakshman Jha Parimal
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
बस, इतना सा करना...गौर से देखते रहना
Teena Godhia
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
मैंने आईने में जब भी ख़ुद को निहारा है
Bhupendra Rawat
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
Dr fauzia Naseem shad
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
बड़ा मज़ा आता है,
बड़ा मज़ा आता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
पैसा
पैसा
Kanchan Khanna
Loading...