Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2016 · 1 min read

शायरी भाग 1

मेरी ज़िंदगी की तन्हाई का,
कोई रास्ता नहीं है |
हर पल एक चोट सी चुभी है,
मेरी मुस्कान का इससे,
कोई वासता नहीं है ||
**************
हर तरफ एक धुंद सी छायी है,
मेरी आँखों की नमी,
फिर भी नज़र आई है |
कोई खामोश है इस तरह,
जैसे दिल में रहती परछाई है |
किसी ने छुपाया है हर राज़ दिल का,
तो क्यों कहे हम उसे हमराज़ दिल का ||
*****************

मैं जो हूँ वो कोई जानता नहीं है,
शायद यहाँ कोई मुझे पहचानता नहीं है |
खोये है भीड़ में हम,यहाँ कोई सहारा नहीं है ||
मेरे आंसू ही मुझे हँसा देते है,
मेरी खुशियों का कोई किनारा नहीं है |
*****************

बैठे थे तेरे इंतज़ार में,
कोई ख्वाइश अधूरी रह गई तेरे प्यार में |
मिलने जा रही हूँ आज लहरों से,
फिर भी इंतज़ार है तेरा,
काश तू रोक ले मुझे बहने से ||
**************

कोई ख़ुशी युँ ही गुज़रती नहीं है,
हवा भी बेवजह थमती नहीं |
ज़रा मुस्कुरा कर स्वागत करना इनका,
क्युकि मुश्किलें कमज़ोरों को मिलती नहीं है ||

– सोनिका मिश्रा

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 936 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
*पानी सबको चाहिए, सबको जल की आस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कलियों  से बनते फूल हैँ
कलियों से बनते फूल हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी मोहब्बत का चाँद
मेरी मोहब्बत का चाँद
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसान
किसान
Dinesh Kumar Gangwar
"" *आओ करें कृष्ण चेतना का विकास* ""
सुनीलानंद महंत
Little Things
Little Things
Dhriti Mishra
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
Sonam Puneet Dubey
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr .Shweta sood 'Madhu'
अलाव की गर्माहट
अलाव की गर्माहट
Arvina
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
بدلتا ہے
بدلتا ہے
Dr fauzia Naseem shad
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
एक पूरी सभ्यता बनाई है
एक पूरी सभ्यता बनाई है
Kunal Prashant
भक्त बनो हनुमान के,
भक्त बनो हनुमान के,
sushil sarna
"ढोंग-पसंद रियासत
*प्रणय प्रभात*
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
मेरी खुशियों की दिवाली हो तुम।
मेरी खुशियों की दिवाली हो तुम।
Rj Anand Prajapati
"सुकून"
Dr. Kishan tandon kranti
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
सहमी -सहमी सी है नज़र तो नहीं
Shweta Soni
सोचें सदा सकारात्मक
सोचें सदा सकारात्मक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
तुम वादा करो, मैं निभाता हूँ।
अजहर अली (An Explorer of Life)
Loading...