Oct 20, 2016 · 1 min read

शायरी भाग 1

मेरी ज़िंदगी की तन्हाई का,
कोई रास्ता नहीं है |
हर पल एक चोट सी चुभी है,
मेरी मुस्कान का इससे,
कोई वासता नहीं है ||
**************
हर तरफ एक धुंद सी छायी है,
मेरी आँखों की नमी,
फिर भी नज़र आई है |
कोई खामोश है इस तरह,
जैसे दिल में रहती परछाई है |
किसी ने छुपाया है हर राज़ दिल का,
तो क्यों कहे हम उसे हमराज़ दिल का ||
*****************

मैं जो हूँ वो कोई जानता नहीं है,
शायद यहाँ कोई मुझे पहचानता नहीं है |
खोये है भीड़ में हम,यहाँ कोई सहारा नहीं है ||
मेरे आंसू ही मुझे हँसा देते है,
मेरी खुशियों का कोई किनारा नहीं है |
*****************

बैठे थे तेरे इंतज़ार में,
कोई ख्वाइश अधूरी रह गई तेरे प्यार में |
मिलने जा रही हूँ आज लहरों से,
फिर भी इंतज़ार है तेरा,
काश तू रोक ले मुझे बहने से ||
**************

कोई ख़ुशी युँ ही गुज़रती नहीं है,
हवा भी बेवजह थमती नहीं |
ज़रा मुस्कुरा कर स्वागत करना इनका,
क्युकि मुश्किलें कमज़ोरों को मिलती नहीं है ||

– सोनिका मिश्रा

1 Comment · 535 Views
You may also like:
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
यादें आती हैं
Krishan Singh
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
Little baby !
Buddha Prakash
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H.
🙏विजयादशमी🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग१]
Anamika Singh
तपिश
SEEMA SHARMA
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
poem
पंकज ललितपुर
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
राम राज्य
Shriyansh Gupta
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
Loading...