Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

हैं सितारे डरे-डरे फिर से – संदीप ठाकुर

हैं सितारे डरे-डरे फिर से
रात साज़िश न कुछ करे फिर से

सब इशारे हैं बाढ़ आने के
बदले दरिया ने पैंतरे फिर से

जिस्म पे काई जम रही है या
ज़ख़्म होने लगे हरे फिर से

तुम नहीं थे तो राह ने पूछा
तू अकेला इधर अरे फिर से

फिर नए हाथ की छुअन लब पर
नर्म बाँहों के दायरे फिर से

ऐसे बोलो न टोक कर कोई
लब पे उँगली मिरे धरे फिर से

संदीप ठाकुर
Sundeep Thakur

185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
देवराज यादव
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
तुममें और मुझमें बस एक समानता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
"सूप"
Dr. Kishan tandon kranti
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
3215.*पूर्णिका*
3215.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
#फ़र्ज़ी_उपाधि
#फ़र्ज़ी_उपाधि
*Author प्रणय प्रभात*
नायाब तोहफा
नायाब तोहफा
Satish Srijan
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसके कहने पे दावा लिया करता था
उसके कहने पे दावा लिया करता था
Keshav kishor Kumar
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
bharat gehlot
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
नाचणिया स नाच रया, नचावै नटवर नाथ ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
तुम्हारे महबूब के नाजुक ह्रदय की तड़पती नसों की कसम।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
How to keep a relationship:
How to keep a relationship:
पूर्वार्थ
त्याग
त्याग
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...