Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

शायरी- अँधेरा

इतना तो दर्द लाज़िम है ‘दवे’बेलौस जवानी में,
बारिश हो अश्क़ों की हर प्रेम कहानी में।
*** ***
अँधेरा ख़ौफ़ज़दा है उजालों की आहट पाकर,
कभी कभी चिराग़ भी जलते है चाहत पाकर।
*** ***
दर्द इतना ही लिख मेरे ख़ुदा,
कि उफ् तो निकले पर ‘आह’ न निकल जाए।
इतना ही तड़फा किसी को,
कि जीने की चाह न निकल जाए।
*** ***

Language: Hindi
Tag: शेर
668 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
तुम्हारी चाय
तुम्हारी चाय
Dr. Rajeev Jain
3148.*पूर्णिका*
3148.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
मैं जी रहा हूँ जिंदगी, ऐ वतन तेरे लिए
gurudeenverma198
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
*बस एक बार*
*बस एक बार*
Shashi kala vyas
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
हे राम हृदय में आ जाओ
हे राम हृदय में आ जाओ
Saraswati Bajpai
🙅पहचान🙅
🙅पहचान🙅
*प्रणय प्रभात*
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr .Shweta sood 'Madhu'
खुद से जंग जीतना है ।
खुद से जंग जीतना है ।
Ashwini sharma
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
Dr. Man Mohan Krishna
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
Paras Nath Jha
मेरे पिताजी
मेरे पिताजी
Santosh kumar Miri
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
अफ़सोस
अफ़सोस
Shekhar Chandra Mitra
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
*मुझे गाँव की मिट्टी,याद आ रही है*
sudhir kumar
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
आधी बीती जून, मिले गर्मी से राहत( कुंडलिया)
Ravi Prakash
'ऐन-ए-हयात से बस एक ही बात मैंने सीखी है साकी,
'ऐन-ए-हयात से बस एक ही बात मैंने सीखी है साकी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...