Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2023 · 1 min read

शायद ये सांसे सिसक रही है

शायद ये सांसे सिसक रही है
प्रियतम के लिए भटक रही हैं।।

प्रियतम अभी तक आए नही।
माथे की बिंदिया चटक रही है।।

हो न जाय कोई अब अनहोनी।
ये बात दिल में खटक रही है।।

मेरे सुहाग को कोई है खतरा।
ये मेरी चूड़ियां चटक रही है।।

आ जाए मेरे प्रियतम जल्दी।
जिनके जिंदगी निकट रही है।।

चल रही है मेरी अंतिम सांसे।
इसलिए गंगाजल सटक रही हैं।।

क्यों न आई मृत्यु अभी तक।
प्रीतम के लिए ये अटक रही है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
चन्द्रयान पहुँचा वहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आओ हम मुहब्बत कर लें
आओ हम मुहब्बत कर लें
Shekhar Chandra Mitra
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
प्रकृति प्रेमी
प्रकृति प्रेमी
Ankita Patel
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
" तुम्हारे संग रहना है "
DrLakshman Jha Parimal
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
ये अमलतास खुद में कुछ ख़ास!
Neelam Sharma
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
"राजनीति" विज्ञान नहीं, सिर्फ़ एक कला।।
*Author प्रणय प्रभात*
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्या कहे हम तुमको
क्या कहे हम तुमको
gurudeenverma198
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
प्रकृति कि  प्रक्रिया
प्रकृति कि प्रक्रिया
Rituraj shivem verma
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
*आया पूरब से अरुण ,पिघला जैसे स्वर्ण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
Rj Anand Prajapati
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-217💐
💐प्रेम कौतुक-217💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरी हुसन ए कशिश  हमें जीने नहीं देती ,
तेरी हुसन ए कशिश हमें जीने नहीं देती ,
Umender kumar
2948.*पूर्णिका*
2948.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आयेगी मौत जब
आयेगी मौत जब
Dr fauzia Naseem shad
Loading...