Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏

शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏

शहीदों की शहादत को नमन और याद करता हूँ।
भगत सुखदेव विश्मिल राजगुरूको याद करताहूँ।।
तपन महसूस करता हूँ शहिदों की चिताओं की।
मयस्सर मौत हो ऐसी यही फरियाद करता हूँ।।

1 Like · 2 Comments · 437 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
*
*"अक्षय तृतीया"*
Shashi kala vyas
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
चुनावी साल में समस्त
चुनावी साल में समस्त
*प्रणय प्रभात*
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
पल
पल
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
👉अगर तुम घन्टो तक उसकी ब्रेकअप स्टोरी बिना बोर हुए सुन लेते
पूर्वार्थ
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
"तेरे बारे में"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या हिसाब दूँ
क्या हिसाब दूँ
हिमांशु Kulshrestha
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
नए मुहावरे का चाँद
नए मुहावरे का चाँद
Dr MusafiR BaithA
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
Dr fauzia Naseem shad
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
शिव वन्दना
शिव वन्दना
Namita Gupta
मिसाल (कविता)
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
"" *समय धारा* ""
सुनीलानंद महंत
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
तुम ऐसे उम्मीद किसी से, कभी नहीं किया करो
gurudeenverma198
Loading...