Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2023 · 1 min read

शर्म करो

रोज़ बनाओ पोज़ बनाओ,
आईने से कन्फर्म करो।
हद झूठे मक्कार हो गए,
थोड़ा ही पर शर्म करो।।
दारू पीओ धुवां उड़ाओ,
पार्टियों में इंटर्न करो।
मौत एक दिन आयेगी ही,
थोड़ा ही पर धर्म करो।।

Language: Hindi
1 Like · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हास्य कथा :अहा कल्पवृक्ष
हास्य कथा :अहा कल्पवृक्ष
Ravi Prakash
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
कोना मेरे नाम का
कोना मेरे नाम का
Dr.Priya Soni Khare
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
🙏🙏
🙏🙏
Neelam Sharma
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
You have to commit yourself to achieving the dreams that you
पूर्वार्थ
2681.*पूर्णिका*
2681.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बहरे अगर हेडफोन, ईयरफोन या हियरिंग मशीन का उपयोग करें तो और
*Author प्रणय प्रभात*
"अन्दाज"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेवजह कदमों को चलाए है।
बेवजह कदमों को चलाए है।
Taj Mohammad
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
खामोशी से तुझे आज भी चाहना
Dr. Mulla Adam Ali
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---5. तेवरी में विरोधरस -- रमेशराज
कवि रमेशराज
हमारी आखिरी उम्मीद हम खुद है,
हमारी आखिरी उम्मीद हम खुद है,
शेखर सिंह
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Kya kahun ki kahne ko ab kuchh na raha,
Irfan khan
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
आँखें उदास हैं - बस समय के पूर्णाअस्त की राह ही देखतीं हैं
Atul "Krishn"
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...