Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,

शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
पढ़ने वाले को क्या पता लिखने वाले के क्या है जज्बात ।
अक्षरों में है दर्द , प्यार , विचार या कोई ख्यालात ,
बात है व्यंग्य या सम्मान ये तो तय करते हैं हालात ।।

2 Likes · 376 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ज्योति
View all
You may also like:
3575.💐 *पूर्णिका* 💐
3575.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
"कलम का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमने माना अभी
हमने माना अभी
Dr fauzia Naseem shad
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
■ दुनिया की दुनिया जाने।
■ दुनिया की दुनिया जाने।
*प्रणय प्रभात*
बंशी बजाये मोहना
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
मर्द
मर्द
Shubham Anand Manmeet
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
कैसा हो रामराज्य
कैसा हो रामराज्य
Rajesh Tiwari
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
*पद का मद सबसे बड़ा, खुद को जाता भूल* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
दीदार
दीदार
Dipak Kumar "Girja"
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
फलानी ने फलाने को फलां के साथ देखा है।
फलानी ने फलाने को फलां के साथ देखा है।
Manoj Mahato
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
हर एक नागरिक को अपना, सर्वश्रेष्ठ देना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...