Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

शब्दों का तीर मेरे दिल मे उतर गया

अपने दामन से हटाना था तो कह देते .
यूँ दुपट्टे को झटकने की जरूरत क्या थी.

*****************************
खंजर के वार तो मै, हाथों से रोक दूं .
शब्दों का तीर मेरे, दिल में उतर गया.
~~ रमेश शर्मा~~

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 629 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
* राह चुनने का समय *
* राह चुनने का समय *
surenderpal vaidya
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
"सचमुच"
Dr. Kishan tandon kranti
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
23/52.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/52.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नहीं-नहीं प्रिये
नहीं-नहीं प्रिये
Pratibha Pandey
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
हर एक मन्जर पे नजर रखते है..
कवि दीपक बवेजा
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
6. *माता-पिता*
6. *माता-पिता*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*प्रणय प्रभात*
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
वो कैसा दौर था,ये कैसा दौर है
Keshav kishor Kumar
अदब से उतारा होगा रब ने ख्बाव को मेरा,
अदब से उतारा होगा रब ने ख्बाव को मेरा,
Sunil Maheshwari
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
वर्ण पिरामिड
वर्ण पिरामिड
Neelam Sharma
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हर
हर "प्राण" है निलय छोड़ता
Atul "Krishn"
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
Loading...