Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 20, 2017 · 1 min read

शब्दों का तीर मेरे दिल मे उतर गया

अपने दामन से हटाना था तो कह देते .
यूँ दुपट्टे को झटकने की जरूरत क्या थी.

*****************************
खंजर के वार तो मै, हाथों से रोक दूं .
शब्दों का तीर मेरे, दिल में उतर गया.
~~ रमेश शर्मा~~

1 Like · 282 Views
You may also like:
** शरारत **
Dr. Alpa H. Amin
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
✍️पत्थर-दिल✍️
"अशांत" शेखर
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
गिरते-गिरते - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटता तारा
Anamika Singh
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
** यकीन **
Dr. Alpa H. Amin
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
इश्क़―की―आग
N.ksahu0007@writer
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H. Amin
Loading...