Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

शब्दों का तीर मेरे दिल मे उतर गया

अपने दामन से हटाना था तो कह देते .
यूँ दुपट्टे को झटकने की जरूरत क्या थी.

*****************************
खंजर के वार तो मै, हाथों से रोक दूं .
शब्दों का तीर मेरे, दिल में उतर गया.
~~ रमेश शर्मा~~

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
बाँध लू तुम्हें......
बाँध लू तुम्हें......
Dr Manju Saini
*बोले बच्चे माँ तुम्हीं, जग में सबसे नेक【कुंडलिया】*
*बोले बच्चे माँ तुम्हीं, जग में सबसे नेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
Taran Verma
In the end
In the end
Vandana maurya
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीतिका...
गीतिका...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"फागुन गीत..2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
सूर्यकांत द्विवेदी
नेहा सिंह राठौर
नेहा सिंह राठौर
Shekhar Chandra Mitra
हवाएँ
हवाएँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
सच और हकीकत
सच और हकीकत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
मै पैसा हूं मेरे रूप है अनेक
Ram Krishan Rastogi
■ संदेश देतीं बांस की टोकरियाँ
■ संदेश देतीं बांस की टोकरियाँ
*Author प्रणय प्रभात*
*जीवन जीने की कला*
*जीवन जीने की कला*
Shashi kala vyas
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
Vishal babu (vishu)
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
पहले प्यार में
पहले प्यार में
श्री रमण 'श्रीपद्'
हादसे बोल कर नहीं आते
हादसे बोल कर नहीं आते
Dr fauzia Naseem shad
"अमृत और विष"
Dr. Kishan tandon kranti
एक जिंदगी एक है जीवन
एक जिंदगी एक है जीवन
विजय कुमार अग्रवाल
सियासत
सियासत
Anoop Kumar Mayank
💐अज्ञात के प्रति-89💐
💐अज्ञात के प्रति-89💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नारी
नारी
नन्दलाल सुथार "राही"
चलो दूर चले
चलो दूर चले
Satish Srijan
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कौन है जो तुम्हारी किस्मत में लिखी हुई है
कवि दीपक बवेजा
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
एक दिन जब न रूप होगा,न धन, न बल,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...