Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व

व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि विचार और संबंध में चुनना हो तो संबंध चुने। हमारे महाकाव्य बताते हैं कि विचारों की उत्पत्ति संबंधों से हुई है।

1 Like · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पता नहीं था शायद
पता नहीं था शायद
Pratibha Pandey
रास्ता तुमने दिखाया...
रास्ता तुमने दिखाया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
विषय
विषय
Rituraj shivem verma
जिन्दगी ....
जिन्दगी ....
sushil sarna
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
त्यागकर अपने भ्रम ये सारे
इंजी. संजय श्रीवास्तव
■लगाओ नारा■
■लगाओ नारा■
*Author प्रणय प्रभात*
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नदियां
नदियां
manjula chauhan
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
देश- विरोधी तत्व
देश- विरोधी तत्व
लक्ष्मी सिंह
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
संतोष बरमैया जय
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
माँ सरस्वती
माँ सरस्वती
Mamta Rani
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
हमारा देश भारत
हमारा देश भारत
surenderpal vaidya
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जन-मन की भाषा हिन्दी
जन-मन की भाषा हिन्दी
Seema Garg
मोरनी जैसी चाल
मोरनी जैसी चाल
Dr. Vaishali Verma
Loading...