Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2018 · 1 min read

व्यंग्य – कवि होता

….. व्यंग्य …..

किन्चित यदि मैं भी तुम जैसा , पोइट शायर या कवि होता ।
हिन्दी इंग्लिश उर्दू मिश्रित शब्दों से अभिनव कवि होता ।।

कभी मंच पर किसी पंथ पर , एक पंक्ति तब तक दोहराता ।
वाह वाह ध्वनि श्रोताओं के मुख से जब तक न करवाता ।।
करतल ध्वनि या विज्ञापन से ही इस युग का प्रिय कवि होता ।

कभी वीर रस के गीतों को पंचम स्वर में ढाल सुनाता ।
‘निर्भय’ सा उपनाम धराता , चाहे चूहे से डर जाता ।।
मनसा वचन कर्म से जग में विरला ही कोई कवि होता ।

मुक्तक संग्रह खण्ड काव्य नित मातु शारदे से लिखवाता ।
छन्द मुक्त या मुक्त छन्द सी आदि विधाओं को हटवाता ।।
गद्य पद्य ही कहलाता यदि सारा जग कवि ही कवि होता ।

नित्य नयी कल्पना सारथी को लेकर अम्बर पर जाता ।
अपने हाथों दुराग्रहों को अंतरिक्ष के पार गिराता ।।
धरती से तम दूर भगाता साथ मेरे भी यदि रवि होता ।

सारे जग की पीड़ा को मैं अपने गीतों में भर लेता ।
सुख- दुख के इस रंग- मंच पर जीवन का अभिनय कर लेता ।।
निज धन वैभव सबको देकर निर्मल जन- जन का कवि होता ।

डा. उमेश चन्द्र श्रीवास्तव
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: गीत
461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिस इंसान में समझ थोड़ी कम होती है,
जिस इंसान में समझ थोड़ी कम होती है,
Ajit Kumar "Karn"
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
Touch the Earth,
Touch the Earth,
Dhriti Mishra
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
नारी
नारी
Dr.Pratibha Prakash
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
आजा कान्हा मैं कब से पुकारूँ तुझे।
Neelam Sharma
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
ज़िंदगी मेरी दर्द की सुनामी बनकर उभरी है
Bhupendra Rawat
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
👏बुद्धं शरणम गच्छामी👏
*प्रणय प्रभात*
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
उसे गवा दिया है
उसे गवा दिया है
Awneesh kumar
एक पल को न सुकून है दिल को।
एक पल को न सुकून है दिल को।
Taj Mohammad
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
आप जिंदगी का वो पल हो,
आप जिंदगी का वो पल हो,
Kanchan Alok Malu
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
अगर ख़ुदा बनते पत्थर को तराश के
Meenakshi Masoom
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जीवन में मुस्काना सीखो (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
विश्व कप
विश्व कप
Pratibha Pandey
— मैं सैनिक हूँ —
— मैं सैनिक हूँ —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
Loading...