Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

वो तो शहर से आए थे

खेती करने को आसान काम कह रहे थे
सोच रहे थे सब जाने वो कहां से आए थे
वो जब अंगीठी को चूल्हा कह गए थे
हम भी समझ गए वो तो शहर से आए थे

सोंधी सोंधी खुशबू इस गांव की मिट्टी की
जाने उनको क्यों नहीं भा रही थी
डर रहे थे जब वो मिट्टी में हाथ लगाने से
हम भी समझ गए वो तो शहर से आए थे

था नहीं खेती का कोई अनुभव उनको
खेती पर बोलकर, वो विदेश भी हो आए थे
किताबें पढ़कर ही बन गए थे कृषि एक्सपर्ट वो
हम भी समझ गए वो तो शहर से आए थे

अपनी धुन में मगन है वो इतने कि
अनपढ़ किसान को अंग्रेज़ी में समझा आए थे
भाग खड़े हो गए थे चंद बारिश की बूंदों से
हम भी समझ गए वो तो शहर से आए थे

चल रहे थे ऐसे गांव की पगडंडियों पर
मानो वो दूसरे ग्रह से धरती पर आए थे
जब पकड़ लिया उन्होंने संकरे रास्ते पर हाथ मेरा
हम भी समझ गए वो तो शहर से आए थे

अभी देखी नहीं थी दोपहर की गर्मी खेतों में
वो सुबह सुबह ही खेतों से हो आए थे
जब दोपहर में चंद पलों में हो गई हालत खस्ता
हम भी समझ गए वो तो शहर से आए थे।

Language: Hindi
8 Likes · 1248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस एक कदम दूर थे
बस एक कदम दूर थे
'अशांत' शेखर
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
कौशल कविता का - कविता
कौशल कविता का - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
एक ही तो, निशा बचा है,
एक ही तो, निशा बचा है,
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
😊चुनावी साल😊
😊चुनावी साल😊
*Author प्रणय प्रभात*
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
किसी तरह मां ने उसको नज़र से बचा लिया।
Phool gufran
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
Ranjeet kumar patre
धर्मांध
धर्मांध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - २)
Kanchan Khanna
लत
लत
Mangilal 713
"विश्वास"
Dr. Kishan tandon kranti
गुलामी छोड़ दअ
गुलामी छोड़ दअ
Shekhar Chandra Mitra
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
आज जिंदगी को प्रपोज़ किया और कहा -
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
कवि दीपक बवेजा
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।
Anil Mishra Prahari
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
Loading...