Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 2 min read

वेलेंटाइन डे

बाबूजी, ले लो न फूल, बिल्कुल ताज़ा है। इन शब्दों के साथ ही किसी ने उसकी जैकेट को थोड़ा खींचा भी
तो अचानक वो वास्तविक दुनिया में लौट आया।

पीछे मुड़कर देखा तो दो छोटे छोटे बच्चे गुलाब के फूल लिए खड़े थे। शायद भाई बहन थे। लडका 10 वर्ष का होगा और लड़की 6 या 7 वर्ष की होगी।

, “नहीं, बेटा मुझे नहीं चाहिए”
ये कह कर वह आगे बढने लगा तो लडका बोला, “साहब, आज तो सब किसी न किसी को फूल दे रहे हैं,
आप किसी को नहीं दोगे? “आज 14 फरवरी है ना साहब।

14 फरवरी सुन कर अचानक से उसने इधर उधर देखा
सच में हर जगह लडके लडकिया इधर उधर खड़े थे। किसी के हाथों में फूल थे किसी के हाथ में तोहफे।

” साहब, एक ही ले लो,। बस बीस रूपये ही दे दो।
ज्यादा नहीं “लड़के ने फिर जैकेट का कोना खींच कर कहा।

अचानक से उसकी दिलचस्पी बच्चों में हो गई।
” बीस रुपये ही क्यों, लोग तो पचास का बेच रहे हैं ”

लडका बोला, “साहब, मेरी बहन सुबह से भूखी है।
एक वडापाव तो मिल जायेगा इस के लिए। दोनों बच्चे उम्मीद भरी नजरों से उसे देख रहे थे।
भाई की आंखों में बहन के लिए प्यार साफ दिखाई दे रहा था। जो उसके मन को विचलित कर गया।

उसने पचास रुपये का नोट लड़के को थमा कर कहा, ” जाओ कुछ खा लो”।
लेकिन आप ने फूल नहीं लिए साहब।
मुझे भीख नहीं चाहिए।

खुद्दारी देख मन खुश हो गया।

एक गुलाब लिया और छोटी बच्ची के उलझे बालों में लगा वो आगे बढ़ ग
हर वैलेंटाइन पर उदास रहने वाला उसका मन आज शांत था।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
सजल...छंद शैलजा
सजल...छंद शैलजा
डॉ.सीमा अग्रवाल
पल भर कि मुलाकात
पल भर कि मुलाकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
प्यार का यह सिलसिला चलता रहे।
surenderpal vaidya
नैन
नैन
TARAN VERMA
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
मुझे उस पार उतर जाने की जल्दी ही कुछ ऐसी थी
शेखर सिंह
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/50.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
🌸साहस 🌸
🌸साहस 🌸
Mahima shukla
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
Satish Srijan
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
भगवान सर्वव्यापी हैं ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
इश्क़ किया नहीं जाता
इश्क़ किया नहीं जाता
Surinder blackpen
मां है अमर कहानी
मां है अमर कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
होली और रंग
होली और रंग
Arti Bhadauria
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
"जन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
बिछड़कर मुझे
बिछड़कर मुझे
Dr fauzia Naseem shad
"किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...