Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

वृक्ष लगाओ,

वृक्ष लगाओ,
सृष्टि बचाओ।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
𝕾...✍🏻
𝕾...✍🏻
पूर्वार्थ
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
सुंदरता अपने ढंग से सभी में होती है साहब
शेखर सिंह
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
आरक्षण बनाम आरक्षण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-233💐
💐प्रेम कौतुक-233💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
जब ख्वाब भी दर्द देने लगे
Pramila sultan
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
"वक्त के पाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
2880.*पूर्णिका*
2880.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
तमाम लोग
तमाम लोग "भोंपू" की तरह होते हैं साहब। हर वक़्त बजने का बहाना
*Author प्रणय प्रभात*
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हनुमान बनना चाहूॅंगा
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
*अहिल्या (कुंडलिया)*
*अहिल्या (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
सच और झूठ
सच और झूठ
Neeraj Agarwal
जय माता दी
जय माता दी
Raju Gajbhiye
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
Loading...