Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“वीर शपथ तुम आज लो”

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी *देश प्रेम गीत* ?वीर शपथ तुम आज लो? छंद मुक्त रचना तर्ज–फूल तुम्हें भेजा है ख़त में.. ************* वीर शपथ तुम आज लो, माँ का मान बढ़ाएँगे, भारत वीरों की जननी है, समता भाव जगाएँगे। आतंकी हमलावर छाए, इनको मार भगाएँगे, मातृभूमि की शान बनें हम ,गौरव इसका गाएँगे।। ************************ दुश्मन से ये घिरी है जननी, भारती करे चीत्कार रे, जागो रे वीर जवानों जागो,माँ की सुनलो पुकार रे, जाति-पाति का भेद भुलाके ,राष्ट्रप्रेम हित ध्यान रखें, माँ की बलिवेदी पे चढ़के अपना शीश नवाएँगे। भारत वीरों की जननी है,समता भाव जगाएँगे, आतंकी हमलावर छाए, इनको मार भगाएँगे, मातृभूमि की शान बनें हम, गौरव इसका गाएँगे, वीर शपथ तुम आज लो, माँ का मान बढ़ाएँगे । ****************************** आतंकी की गोली झेले,सहमा सा कश्मीर रे, वीरों की जननी भारत है,बढ़ो प्रताप से वीर रे, लहू शहीद का तुम्हें पुकारे,सब मिल आगे आओ रे, माँ की बलिवेदी पे चढ़के ,अपना शीश नवाएँगे। भारत वीरों की जननी है, समता भाव जगाएँगे, आतंकी हमलावर छाए,इनको मार भगाएँगे, मातृभूमि की शान बनें हम,गौरव इसका गाएँगे वीर शपथ तुम आज लो, माँ का मान बढ़ाएँगे, भारत वीरों की जननी है, समता भाव जगाएँगे। ******************************* डॉ. रजनी अग्रवाल”वाग्देवी रत्ना”

217 Views
You may also like:
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
प्रकृति का क्रोध
Anamika Singh
किसान की आत्मकथा
"अशांत" शेखर
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
✍️मनस्ताप✍️
"अशांत" शेखर
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बचपन
Anamika Singh
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
गंगा दशहरा
श्री रमण
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*प्लीज और सॉरी की महिमा {#हास्य_व्यंग्य}*
Ravi Prakash
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
मत करना
dks.lhp
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
आमाल।
Taj Mohammad
Loading...