Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

वीर भोग्या वसुंधरा

आदि अनादि काल से रही यही परम्परा
कायरों ने दुःख सहे हैं, वीर भोग्या वसुंधरा

किंचित नहीं भयभीत हो विषम विपरीत बहाव में
कर को अपने पर बना जो पतवार डाले नाव में
हो तनिक विचलित नहीं वह व्यर्थ के तनाव में
मरहम लगाना जानता जो स्वयं अपने घाव में
काल के कराल से जो कभी नहीं डरा
कायरों ने दुःख सहे हैं, वीर भोग्या वसुंधरा
…..(१)

आवेगों की आंधी को जो दामन में बांधे हो
अश्रुधार को जो अपनी पलकों पर ही साधे हो
बृंदावन सा जीवन हो और मुख पर राधे राधे हो
उत्तरदायित्वों से शोभित जिसके उन्नत कांधे हों
इस धरा पर नाम जिसने कर्म से अमर करा
कायरों ने दुःख सहे हैं, वीर भोग्या वसुंधरा
…..(२)

जो अभाव में भाव खोज ले, सूनेपन में कलरव को
पीड़ा से मुस्कान छीन ले और कोलाहल में नीरव को
प्रतिबिम्बों से प्रतिमान गढ़े, जीर्ण शीर्ण से नूतन नव को
मृत्यु भी नमन करती है अंत समय उसके शव को
मरकर भी इस जग से जो अद्यावधि तक नहीं मरा
कायरों ने दुःख सहे हैं, वीर भोग्या वसुंधरा
….. (३)

– हरवंश श्रीवास्तव ‘हर्फ़’

7 Likes · 2 Comments · 2024 Views
You may also like:
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
संघर्ष
Sushil chauhan
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पापा
सेजल गोस्वामी
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतजार
Anamika Singh
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आओ तुम
sangeeta beniwal
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
Loading...