Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2023 · 1 min read

वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)

वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)

धन्य हमारी मातृभूमि, धन्य हमारे वीरवर
लौट आये कालमुख से, शत्रू की छाती चीरकर
बढ़ चले विजयनाद करते, काल को परास्त कर
रीढ़ शत्रू का तोड़ आये, बज्र मुश्ठ प्रहार कर
पीछे न हट सके वो पग, जब काल का प्रण किया
रणबांकुरों ने ऐसे हँसके, मृत्यु का वरण किया
***

—महावीर उत्तरांचली

1 Like · 104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
24/238. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/238. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
"यह कैसा नशा?"
Dr. Kishan tandon kranti
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देश और जनता~
देश और जनता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
किस कदर है व्याकुल
किस कदर है व्याकुल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
मेरे दिल की हर इक वो खुशी बन गई
कृष्णकांत गुर्जर
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
जय अम्बे
जय अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बेरुखी इख्तियार करते हो
बेरुखी इख्तियार करते हो
shabina. Naaz
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
आसान नही सिर्फ सुनके किसी का किरदार आंकना
Kumar lalit
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
!! मेरी विवशता !!
!! मेरी विवशता !!
Akash Yadav
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
*ख़ास*..!!
*ख़ास*..!!
Ravi Betulwala
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरुकुल भारत
गुरुकुल भारत
Sanjay ' शून्य'
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
हमारे हाथ से एक सबक:
हमारे हाथ से एक सबक:
पूर्वार्थ
"महंगाई"
Slok maurya "umang"
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*Author प्रणय प्रभात*
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
परेशान देख भी चुपचाप रह लेती है
Keshav kishor Kumar
Loading...