Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

वीरगति

वीरगति की वह गाथा जो
बचपन से सुनता आया हूं
आज अभी लोगो में अपने
संदेश शौर्य का लाया हूं ।

उन मात पिता को वंदन है
जिनके सपूत हुए बलिदानी
जिस मिट्टी मे वो खेले है
सीखी जिससे भक्ति निभानी ।

बंदूको की खेती का
जिसने जज्बा पाल लिया
इंकलाब की गोली से ही
दवा, बीमारी की जान लिया ।

दुःखो की बेडी में जो
माता मेरी जकडी है
उस बेडी के टुकडे होंगे
राह यही जो पकडी है ।

राजगुरू,सुखदेव को लेकर
भगत सिंह रण मे कूद पडे
बात दूर तक पडे सुनाई
तब अंग्रेजो से जूझ पडे ।

कुछ भी करके मिले अज़ादी
भरी सभा मे खूब लडे
भारत मेरा छोड दो अब
इसी बात पर सभी अडे ।

देश बचाने की खातिर
जन-जन में तब हुआ जागरण
मातृ भूमि पर पर मिटने को
निकले ओढ वसंती आवरण ।

क्रांति की आग जल पडी
और हवा दी अरमानो ने
फांसी की सजा सुना दी
विलायती हुक्मरानो ने ।

अपनो की गद्दारी ने
इन क्रांतिवीरों को खोया
गंदी राजनीति ने भी फिर
चुल्लू भर पानी मे मुंह धोया ।

पर जो ज्वाला भड़कानी थी
वो हृदय मे लगा कर चले गये
देश उसी पथ पर बढ गया आगे
वीर ,वीरगति पर चले गये ।

आज मुक्त हवा भी ऋणी आपकी
बाकी जन मानस का क्या कहना
आपका शौर्य,आपकी गाथा
है हृदय मे प्रेम से धारण करना ।
भारत माता की जय🙏

Language: Hindi
1003 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
पंचायती राज दिवस
पंचायती राज दिवस
Bodhisatva kastooriya
अपने चरणों की धूलि बना लो
अपने चरणों की धूलि बना लो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
तुम्हारा मेरा रिश्ता....
पूर्वार्थ
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
मोदी जी का स्वच्छ भारत का जो सपना है
gurudeenverma198
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
राम नाम की प्रीत में, राम नाम जो गाए।
manjula chauhan
आ..भी जाओ मानसून,
आ..भी जाओ मानसून,
goutam shaw
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
*कोटा-परमिट का मिला ,अफसर को हथियार* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
We can rock together!!
We can rock together!!
Rachana
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
यादें
यादें
Tarkeshwari 'sudhi'
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
मन को समझाने
मन को समझाने
sushil sarna
"कुपढ़ बस्ती के लोगों ने,
*प्रणय प्रभात*
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन जितना
जीवन जितना
Dr fauzia Naseem shad
साँवरिया
साँवरिया
Pratibha Pandey
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
Loading...