Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

विषय

विषय
अच्छी आदत

बदलिए न जहां को जनाब खुद को बदलिए।
अपने अहं घमंड को पैरों से कुचलिए।।

जो नीतिगत हो राह पथ प्रयाण कीजिए।
मन कर्म वचन से हृदय संकल्प लीजिए।।

दुष्कर्म त्याग कर सदा सत्कर्म कीजिए।
हर अच्छी आदतों का सदा मर्म समझिए।।

परहित में धन और बल को अपने खर्च कीजिए।
सामर्थ्य के अनुसार सेवा कार्य कीजिए।।

न घात कीजिए न प्रतिघात कीजिए।
संकुचित विचारों का परित्याग कीजिए।।

अच्छी आदत ही तो इंसान की पहचान है।
बुरी आदत हो तो बन जाता नर शैतान है।।

शालीन चाल – ढाल हों, शब्दों को मधुर कीजिए।
वाणी से निकले शब्दों पर सदा ध्यान दीजिए।।

अनुज दूसरों की नक़ल करना छोड़ दीजिए।
कुछ बनकर दिखाना है तो पुरुषार्थ कीजिए तय।।

अपने हृदय को प्रेम का सागर बनाइए।
आनंद प्रेमानंद की अनुभूति पाइए।।

मन में भरा दूषित विचार दूर कीजिए।
आनंद की अनुभूति मन में अपने कीजिए।।

द्वेष ईर्ष्या और घृणा की बेल काटिए।
अपने हृदय में बिल्कुल पनपने न दीजिए।।

वेगवान मन को अपने वश में कीजिए।
चिंतन मनन व्यायाम प्राणायाम कीजिए।।

तन हो निरोगी कांतिमय पर ध्यान दीजिए ।
आहार सन्तुलित तुलित सात्विक ही कीजिए ।।
Rituraj verma

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन में असली कलाकार वो गरीब मज़दूर
जीवन में असली कलाकार वो गरीब मज़दूर
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
ऐसा एक भारत बनाएं
ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
दाना
दाना
Satish Srijan
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
पूर्वार्थ
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
ये जो तेरे बिना भी, तुझसे इश्क़ करने की आदत है।
Manisha Manjari
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
“जब से विराजे श्रीराम,
“जब से विराजे श्रीराम,
Dr. Vaishali Verma
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सोच और हम
सोच और हम
Neeraj Agarwal
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
*प्रणय प्रभात*
*लव यू ज़िंदगी*
*लव यू ज़िंदगी*
sudhir kumar
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
"सौदा"
Dr. Kishan tandon kranti
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
*गर्मी देती नहीं दिखाई【बाल कविता-गीतिका】*
Ravi Prakash
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...