Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 2 min read

” विषय ..और ..कल्पना “

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
==============
हम नहीं कहते हैं कि हम कुछ लिखते हैं ….पर बहुत कुछ लिखने को जी चाहता है !… हमारी निगाहें उन तमाम विषयों पर रहती हैं जो हमारे इर्द गिर्द मंडराती रहती हैं !…. कुछ विषयों की गुथियाँ अभी तक उलझी पड़ी हैं ….,कुछ नयी घटनाएँ आये दिनों घटती रहतीं हैं और कुछ आने वाली घटनाओं का आभास होने लगता है !…. आये गए दिनों में, हम अनेकों साहित्यकारों ,लेखकों ,कविओं ,दार्शनिकों और विचारकों के कृतिओं के ज्ञान गंगा के शीतल धारा में डुबकियाँ लगाने लगते हैं !..कभी -कभी किन्हीं के मूक तश्वीरें भी कुछ ऐसी = बातें छोड़ जाती हैं जिन पर किताबें भी लिखीं जा सकती हैं ! ….और… तो… और …हमारी कल्पना की उड़ानें इस तीब्रता से क्षितिज के छोर को छूना चाहती है …कि शायद ही कोई मानव निर्मित यान भी इनकी बराबरी कर ले ! ….सूर्य की किरणें भी जहाँ नहीं पहुँच पाती…. वहां कवि की कल्पना चुटकी बजाते पहुँच जाती है ! ..और कल्पना मात्र कवि की ही नहीं …कल्पना किसी की भी हो सकती है ! हमारे करीब ही विषयों का भंडार होता है !…. श्रृंगारिक परिधानों से सजाना हमारा काम होता है ! आकृतियाँ के अनुरूप ही हमें दुल्हन को आकर्षित बनाना पड़ता है ! ……हम भी इन प्रयासों में लगे है कि तमाम विषयों को यथा संभव अपने ह्रदय में उतार लें और उन सबको एक सकारात्मक परिधानों में सजा कर कोई मूर्त रूप दें ….! हालाँकि यह लिखने की प्रवृति हमारी कभी भी नहीं रही …शायद हम भी कूपमंडूक ही बने रहते ..पर आज हम कृतज्ञ हैं अपने फेसबुक मित्रों के जिनके कृतिओं ने मुझे भी विद्यार्थी बनने का अवसर दिया …साथ ही साथ हम इस आधुनिक यन्त्र को सलूट करते हैं जिसने हमें इस काबिल बनाया कि छोटे छोटे विषयों पर कल्पना के पर लगा सकें -सबको मेरी शुभकामना !…..इति !
===============
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
भारत

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 38 Views
You may also like:
दिल से मदद
Dr fauzia Naseem shad
अराजकता का माहौल
Shekhar Chandra Mitra
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
अब हार भी हारेगा।
Chaurasia Kundan
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भूल जाते हो
shabina. Naaz
✍️यहाँ सब अदम है...
'अशांत' शेखर
हनुमंता
Dhirendra Panchal
वोट भी तो दिल है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोस्त हो तो ऐसा
Anamika Singh
नशा कऽ क नहि गबावं अपन जान यौ
VY Entertainment
बाल मनोविज्ञान
Pakhi Jain
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
कोई ना हमें छेड़े।
Taj Mohammad
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
स्लोगन
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
किसान क्रान्ति
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जाति दलदल या कुछ ओर
विनोद सिल्ला
पैसा
Sushil chauhan
*कस्तूरबा गाँधी पक्षी-विहार की सैर*
Ravi Prakash
नियति से प्रतिकार लो
Saraswati Bajpai
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
प्रेम की राख
Buddha Prakash
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
Loading...