Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2022 · 1 min read

विश्व पृथ्वी दिवस

धरा रात दिन करती काम
ज़रा न करती है आराम
देती यही खाद्य भंडार
और लुटाती सब पर प्यार
माटी इसकी है अनमोल
मानव अपनी आँखें खोल
नहीं स्वार्थ में इसे उजाड़
पेड़ों को तू नहीं उखाड़
कर अपनी धरती पर नाज़
हरियाली का पहना ताज
ये तो है रत्नों की खान
बनते इस पर भव्य मकान
रखना होगा हर पल ध्यान
धरा हमारी मात समान

22-4-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 1 Comment · 329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
" मिलकर एक बनें "
Pushpraj Anant
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
राम-राज्य
राम-राज्य
Shekhar Chandra Mitra
2347.पूर्णिका
2347.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कहां ज़िंदगी का
कहां ज़िंदगी का
Dr fauzia Naseem shad
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
Suryakant Dwivedi
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
माँ स्कंदमाता की कृपा,
माँ स्कंदमाता की कृपा,
Neelam Sharma
* ज़ालिम सनम *
* ज़ालिम सनम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
Swati
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ अनूठा_प्रसंग / तुलसी और रहीम
■ अनूठा_प्रसंग / तुलसी और रहीम
*Author प्रणय प्रभात*
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
अज्ञात
अज्ञात
Shyam Sundar Subramanian
✍️छल कपट
✍️छल कपट
'अशांत' शेखर
अच्छा कार्य करने वाला
अच्छा कार्य करने वाला
नेताम आर सी
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
Taj Mohammad
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
*राम अर्थ है भारत का अब, भारत मतलब राम है (गीत)*
Ravi Prakash
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
‌!! फूलों सा कोमल बनकर !!
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
मेरी तू  रूह  में  बसती  है
मेरी तू रूह में बसती है
डॉ. दीपक मेवाती
बांते
बांते
Punam Pande
Loading...