Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jan 2021 · 1 min read

विश्वास

जहां विश्वास होता नहीं वहां विश्वास दिलाया भी नहीं जा सकता जो अपना नहीं उसे अपना बनाया भी नहीं जा सकता।
कोशिशें ही है जो इंसान बार-बार करता है , लेकिन यह सब एक ख्वाब की तरह है।
जिसे हकीकत बनाया नहीं जा सकता ?

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूटे पैमाने ......
टूटे पैमाने ......
sushil sarna
आओ मृत्यु का आव्हान करें।
आओ मृत्यु का आव्हान करें।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
புறப்பாடு
புறப்பாடு
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
अबीर ओ गुलाल में अब प्रेम की वो मस्ती नहीं मिलती,
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
मेरी खुशी वह लौटा दो मुझको
gurudeenverma198
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
पूर्वार्थ
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2926.*पूर्णिका*
2926.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#मिसाल-
#मिसाल-
*प्रणय प्रभात*
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
हिम्मत और महब्बत एक दूसरे की ताक़त है
SADEEM NAAZMOIN
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ऋतु बसंत
ऋतु बसंत
Karuna Goswami
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
ग़ज़ल/नज़्म : पूरा नहीं लिख रहा कुछ कसर छोड़ रहा हूँ
अनिल कुमार
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दर्द लफ़ज़ों में
दर्द लफ़ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
*नृप दशरथ चिंता में आए (कुछ चौपाइयॉं)*
*नृप दशरथ चिंता में आए (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
"जगत-जननी"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
Anil chobisa
Loading...