Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2016 · 3 min read

‘ विरोधरस ‘—7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज

मन के स्तर पर जागृत हुए भाव का शरीर के स्तर पर प्रगटीकरण अनुभाव कहलाता है। भाव मनुष्य की आंतरिक दशा के द्योतक हैं, जबकि अनुभाव वाह्य दशा के। अतः भाव यदि एक क्रिया है तो अनुभाव अनुकिया या फिर एक प्रतिक्रिया।
हमारे मन में कौन-सा भाव जागृत है, इसका पता हम अनुभाव के ही द्वारा लगाते हैं। यदि मन में स्थायी भाव शोक है तो आंखों से अश्रुपात, स्वर में भंगता, कम्पन या आह-कराह की तीव्रता का प्रगट होना स्वाभाविक है।
जहां तक ‘विरोध-रस’ के स्थायी भाव ‘आक्रोश’ की बात है तो यह ‘करुण-रस’ के स्थायी भाव ‘शोक’ से इसलिए अलग है क्योंकि शोक में किसी प्रिय वस्तु, व्यक्ति आदि के अनिष्ट की आशंका अथवा इनके विनाश से उत्पन्न दुःख की संवेगात्मक स्थिति तो बनती है लेकिन यह संवेगात्मक अवस्था प्रिय की मधुर स्मृतियों से सिक्त होती है।
वियोग में भी योग या संयोग रहता है। निःश्वास, छाती पीटना, रुदन, प्रलाप, मूच्र्छा, कंप, विषाद, क्षोभ, जड़ता, दैन्य, उन्माद, व्याधि आदि के बावजूद शोक-संतप्त प्राणी, प्रिय से बिछुड़कर भी उससे बिछुड़ना नहीं चाहता। प्रेम को खोकर भी उसी प्रेम को पाना चाहता है। वह तो विछोह में ‘चंहु दिशि कान्हा-कान्हा की टेर आंसुओं के बहते हुए पनालों’ के साथ लगाता है। विरहाग्नि में जलता है। सिर को धुनता है।
सच्चे प्रेम में यदि प्रेमी या प्रेमिका के बीच यदि वियोग का संयोग बनता है तो इस में भी मोह या रति का आरोह-अवरोह रहता है। जबकि ‘आक्रोश’ से सिक्त प्राणी के निःश्वास, छाती पीटना, रुदन, प्रलाप, कंप, विषाद, क्षोभ, जड़ता, दैन्य, उन्मादादि में रति या सम्मति के ठीक विपरीत असहमति का समावेश होने के कारण इसकी दुःखानुभूति तीक्ष्ण, क्षोभपरक और दाहक होती है।
विरति की गति को ग्रहण करने वाले भाव का नाम आक्रोश है। आक्रोशित प्राणी प्रिय से विश्वासघात या छल पाने की स्थिति में अप्रिय लगने लगता है। विश्वास में चोट खाया प्राणी विश्वासघाती को मात देने की सोचता है। उसमें रति नहीं, घृणा घनीभूत होती है, जो उसे आक्रोश तक ले जाती है।
मान लीजिए-कोई प्रेमी अपने स्वार्थ-भरे प्रेम को पाने में असफल रहता है और प्रेमिका के चेहरे पर तेजाब फैंक देता है। तेजाब से झुलसी उस प्रेमी की कथित प्रेमिका इस घटना को लेकर क्रन्दन जरूर करेगी। उसके नेत्र अश्रुधारा के अविरल प्रपात बन जाएंगे। वह व्याकुल भी होगी। उसमें क्षोभ या विषाद भी सघन होगा। किंतु उसकी दुःखानुभूति शोक को नहीं आक्रोश को जन्म देगी। उसमें रति नहीं, विरति जागृत होगी। वह ऐसे प्रेमी के समूल नाश की कामना करेगी। वह उसे दुआ नहीं, बद्दुआ देगी।
ठीक इसी प्रकार एक एय्याश पति का प्यार उस नारी पर प्यार की नहीं, कटु और लीक्ष्ण अनुभवों की बौछार करेगा, जिसे पता चला है कि उसका पति कोठों पर नोटों के हार लुटाता है या परनारी को अपनी भोग्या बनाता है। सौतन से किया गया प्यार उसे डाह और कराह की ओर ले जाएगा।
एक भाई की सम्पत्ति को अनैतिक और बलात् तरीके से हड़पने वाला दूसरा भाई, पहले भाई को भ्रातत्व की हत्या करने वाला कसाई दिखायी देगा। वह उसे हर हालत में नीच कहेगा।
किसी मजदूर की भूमि को छल और बलपूर्वक छीनने वाला दबंग, मजदूर के अंग-अंग को शोक से नहीं आक्रोश से भरेगा। भले ही वह उसे भीमकाय को देखकर डरेगा, किंतु उसकी वाणी से दिन-रात अपशब्दों का प्रपात झरेगा।
किसी को उधार दिया धन जब वापस नहीं आता तो धन को दबोचने वाले के प्रति मन एक सीमा तक याचना, निवेदन करने के बाद ऐसे क्षोभ व विषाद से तिलमिलाता है जिसमें मलाल, धिक्कार का अंबार लग जाता है। कुछ मिलकार धन हड़पे जाने को लेकर ‘आक्रोश’ जग जाता है जिसकी निष्पत्ति ‘विरोध-रस’ में होती है।
‘विरोध-रस’ से सिक्त प्राणी के अनुभाव उस घाव का बयान होते हैं जो विश्वास में की गयी घात से उत्पन्न होते हैं। इन अनुभावों को केवल परंपरागत तरीके से नहीं समझा जा सकता है। ‘विरोध-रस’ को समझने के लिए आवश्यक है कि पहले हम आलंबनगत उद्दीपन विभाव अर्थात् आलंबन के अनुभावों तक पहुंचने का प्रयास करें और इन अनुभावों के आधार पर आश्रय में बनने वाले रस को परखें।
————————————————————-
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’ से
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001

Language: Hindi
Tag: लेख
198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
यह सागर कितना प्यासा है।
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
यकीन वो एहसास है
यकीन वो एहसास है
Dr fauzia Naseem shad
23/78.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/78.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
नाम में क्या रखा है
नाम में क्या रखा है
Suryakant Dwivedi
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
surenderpal vaidya
*सो जा मेरी मुनिया रानी (बाल कविता)*
*सो जा मेरी मुनिया रानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-431💐
💐प्रेम कौतुक-431💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दांतो का सेट एक ही था
दांतो का सेट एक ही था
Ram Krishan Rastogi
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
प्रथम संवाद में अपने से श्रेष्ठ को कभी मित्र नहीं कहना , हो
DrLakshman Jha Parimal
मोर
मोर
Manu Vashistha
इजहार ए इश्क
इजहार ए इश्क
साहित्य गौरव
औरत
औरत
Rekha Drolia
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
निर्णायक स्थिति में
निर्णायक स्थिति में
*Author प्रणय प्रभात*
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ONR WAY LOVE
ONR WAY LOVE
Sneha Deepti Singh
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रण प्रतापी
रण प्रतापी
Lokesh Singh
गीत
गीत
Mahendra Narayan
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...