Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 1 min read

विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल

विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफलता का मूलमंत्र है।

पारस नाथ झा

1 Like · 167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
हम इतने सभ्य है कि मत पूछो
ruby kumari
कालजई रचना
कालजई रचना
Shekhar Chandra Mitra
विषाद
विषाद
Saraswati Bajpai
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
अकिंचित ,असहाय और निरीह को सहानभूति की आवश्यकता होती है पर अ
DrLakshman Jha Parimal
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
रुके ज़माना अगर यहां तो सच छुपना होगा।
Phool gufran
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagawan Roy
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
*सखी री, राखी कौ दिन आयौ!*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
कुछ तो नशा जरूर है उनकी आँखो में,
Vishal babu (vishu)
जल धारा में चलते चलते,
जल धारा में चलते चलते,
Satish Srijan
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
इंसान स्वार्थी इसलिए है क्योंकि वह बिना स्वार्थ के किसी भी क
Rj Anand Prajapati
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
2677.*पूर्णिका*
2677.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
तेरी यादों ने इस ओर आना छोड़ दिया है
Bhupendra Rawat
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
पलकों से रुसवा हुए, उल्फत के सब ख्वाब ।
sushil sarna
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
💐अज्ञात के प्रति-141💐
💐अज्ञात के प्रति-141💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये पल आएंगे
ये पल आएंगे
Srishty Bansal
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
*बताए मेरी गलती जो, उसे ईनाम देता हूँ (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*धूप में रक्त मेरा*
*धूप में रक्त मेरा*
Suryakant Dwivedi
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Bodhisatva kastooriya
Loading...