Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

विदाई

राजस्थानी में लिखने का प्रयास

💐💐💐 कुण्डलिया छन्द 💐💐💐

डोली बैठी डावड़ी , कर परदा री ओट ।
काळजो फाटण हुयो , लगि मोकळी चोट ।।
लगि मोकळी चोट , दोनु ही हक्का बक्का
लाड़ सूँ पाळ पोष , क्योंकर दीन्या धक्का
कह भूधर कविराय , मिलै ज्यों कुँआ बावड़ी
गळ लिपट कै रोय, माँ , बाबुल अरु डावड़ी ।।

भवानी सिंह “भूधर”
बड़नगर , जयपुर

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
बैठा हूँ उस राह पर जो मेरी मंजिल नहीं
Pushpraj Anant
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Miracles in life are done by those who had no other
Miracles in life are done by those who had no other "options
Nupur Pathak
2264.
2264.
Dr.Khedu Bharti
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
डिग्रीया तो बस तालीम के खर्चे की रसीदें है,
Vishal babu (vishu)
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
माँ का घर (नवगीत) मातृदिवस पर विशेष
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Take responsibility
Take responsibility
पूर्वार्थ
लिख / MUSAFIR BAITHA
लिख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
पेड़ से इक दरख़ास्त है,
Aarti sirsat
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
तुमसा तो कान्हा कोई
तुमसा तो कान्हा कोई
Harminder Kaur
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
"इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
बम बम भोले
बम बम भोले
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
फितरत
फितरत
Mamta Rani
My Guardian Angel!
My Guardian Angel!
R. H. SRIDEVI
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
*बहुत सुंदर इमारत है, मगर हमको न भाती है (हिंदी गजल)*
*बहुत सुंदर इमारत है, मगर हमको न भाती है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कविता
कविता
Rambali Mishra
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
gurudeenverma198
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
Ravi Betulwala
Loading...