Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2016 · 1 min read

विडम्बना

मैं साँस ले रहा हूँ ,
सूंघ रहा हूँ निर्वात l
कड़ी धूप में देख रहा हूँ अंधकार ,
समुन्दर की तलहटी में सूखा पड़ा है
भेड़ियों का दल
मंथन के लिए खड़ा है l
……..रवि

Language: Hindi
477 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Ranjan Goswami
View all
You may also like:
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सुनो...
सुनो...
हिमांशु Kulshrestha
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Rekha Drolia
राजस्थान
राजस्थान
Anil chobisa
हर जगह मुहब्बत
हर जगह मुहब्बत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
जब ज्ञान स्वयं संपूर्णता से परिपूर्ण हो गया तो बुद्ध बन गये।
जब ज्ञान स्वयं संपूर्णता से परिपूर्ण हो गया तो बुद्ध बन गये।
manjula chauhan
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
सिखला दो न पापा
सिखला दो न पापा
Shubham Anand Manmeet
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
*तिरंगा (बाल कविता)*
*तिरंगा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आप देखो जो मुझे सीने  लगाओ  तभी
आप देखो जो मुझे सीने लगाओ तभी
दीपक झा रुद्रा
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
घमंड
घमंड
Adha Deshwal
"जिन्दाबाद"
Dr. Kishan tandon kranti
मन में मदिरा पाप की,
मन में मदिरा पाप की,
sushil sarna
■ छठ महापर्व...।।
■ छठ महापर्व...।।
*प्रणय प्रभात*
मछली कब पीती है पानी,
मछली कब पीती है पानी,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...