Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2023 · 1 min read

विचार

विचार

किताबों से जब तूने नाता जोड़ा
सुन्दर भविष्य का तूने सपना संजोया
खुले ज्ञान के द्वार सभी
तेरे सपनों ने तुझसे नाता जोड़ा

अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

2 Likes · 2 Comments · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
(साक्षात्कार) प्रमुख तेवरीकार रमेशराज से प्रसिद्ध ग़ज़लकार मधुर नज़्मी की अनौपचारिक बातचीत
कवि रमेशराज
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
" तुम्हारे इंतज़ार में हूँ "
Aarti sirsat
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
*अहमब्रह्मास्मि9*
*अहमब्रह्मास्मि9*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
रूप अलौकिक हे!जगपालक, व्यापक हो तुम नन्द कुमार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
Shashi kala vyas
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
पूर्वार्थ
"सोच व स्वभाव की असली सूरत सदैव संयम के अनावृत्त
*Author प्रणय प्रभात*
23/204. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/204. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*****राम नाम*****
*****राम नाम*****
Kavita Chouhan
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
आज हम सब करें शक्ति की साधना।
surenderpal vaidya
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
वक़्त की रफ़्तार को
वक़्त की रफ़्तार को
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
Loading...