Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 2 min read

विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति

हमारे विचार हमारी संपत्ति हैं क्यों इन पर नकारात्मक विचारों का दीमक लगाए चलो कुछ अच्छा सोंचे कुछ अच्छा करें “।💐
👍मेरा मुझ पर विश्वास जरूरी है ,
मेरे हाथों की लकीरों में मेरी तकदीर
सुनहरी है ।👍

☺ यूँ ही बेवज़ह भी मुस्कराया करो ,
माहौल को खुशनुमा भी बनाया करो ।☺☺
💐अपने लिये तो सभी जीते हैं,
पर जीवन वह सफल है ,जो औरो
के जीने के लिए भी जिया जाये ।”💐

💐मौन की भाषा जो समझ
जाते है।वो ख़ास होते हैं ।
क्योंकि ?
खामोशियों में ही अक्सर
गहरे राज होते है ।
जुबाँ से ज्यादा मौन की भाषा
मे कशिश होती है ।💐☺

💐अगर विचार हो खूबसूरत तो सब खूबसूरत नज़र आता है वो पत्थर ही थे जिन्हें कारीगरों की खूबसूरत सोच ने ताजमहल जैसी बेमिसाल ईमारत बना दिया ।💐

💐 “उजाले मे सब इस क़दर व्यस्त थे कि
ज्योति के उजाले का कारण किसी ने नहीं
जानना चाहा, तभी ज्योति की आह से निकला
दर्द सरेआम हो गया , आँखों से अश्रु बहने लगे
काले धुयें ने हवाओं में अपना घर कर लिया
जब तक उजाला था सब खुश थे धुआँ हुआ तो सब उसे कोसने लगे ।

☺☺बच्चे थे तो सच्चे थे , माना की अक्ल से कच्चे थे ,फिर भी
बहुत ही अच्छे थे , भोलेपन से जीते थे फरेब न किसी से करते थे
तितलियों संग बातें करते थे , चाँद सितारोँ में ऊँची उड़ाने भरते थे
प्रेम की मीठी भाषा से सबको मोहित करते थे ।
बच्चे थे तो अच्छे थे ।☺☺

कौन सुनता है सुनाने से किसी के दिल का हाल
हर कोई यूं ही सर हिला देता है
अपने आप से जायदा अपना और कोई अच्छा मित्र नहीं फिर क्यों न स्वयं को ही स्वयं का मित्र बना लें ।💐

1 Like · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ritu Asooja
View all
You may also like:
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
चला गया
चला गया
Mahendra Narayan
सुनी चेतना की नहीं,
सुनी चेतना की नहीं,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
साथियों जीत का समंदर,
साथियों जीत का समंदर,
Sunil Maheshwari
इक नेता दूल्हे का फूफा,
इक नेता दूल्हे का फूफा,
*प्रणय प्रभात*
@ranjeetkrshukla
@ranjeetkrshukla
Ranjeet Kumar Shukla
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
जिंदगी का ये,गुणा-भाग लगा लो ll
गुप्तरत्न
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
"नहीं देखने हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
वक़्त को वक़्त
वक़्त को वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
अभिसप्त गधा
अभिसप्त गधा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
उसका-मेरा साथ सुहाना....
उसका-मेरा साथ सुहाना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
इन चरागों को अपनी आंखों में कुछ इस तरह महफूज़ रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आवाज़
आवाज़
Dipak Kumar "Girja"
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
दिनचर्या
दिनचर्या
Santosh kumar Miri
‘ विरोधरस ‘---7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
परछाई (कविता)
परछाई (कविता)
Indu Singh
हर मंदिर में दीप जलेगा
हर मंदिर में दीप जलेगा
Ansh
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
समय
समय
Dr.Priya Soni Khare
Loading...