Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

विचार मंच भाग – 4

आज फिर खरगोश से जीत गया कछुवा|
ज़िन्दगी की दौड किसी को भी हरा सकती है|(21)
बादल आये और बे-दल हो गये, जाने कब ज़िन्दगी नरम ताल होगी अब?( 22)
सुना है उनकी आँखों का इलाज हुआ है, आज फिर मुझे कहा दिल साफ है तुम्हारा||(23)
परेशानी अब मेरी आदत सी बन गयी, पराया कोई नहीं और अपने हैं नहीं||(24)
रिश्ता आया था नजाकत का, मैने कहा अधूरापन तेज आंधी हो जाता है||(25)
क्रमश:

224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
"इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब उनके हौसले भी पस्त होने लगे हैं,
अब उनके हौसले भी पस्त होने लगे हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2432.पूर्णिका
2432.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बगिया
बगिया
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
नदी की बूंद
नदी की बूंद
Sanjay ' शून्य'
😢युग-युग का सच😢
😢युग-युग का सच😢
*प्रणय प्रभात*
सफ़र अभी लंबा है...
सफ़र अभी लंबा है...
Ajit Kumar "Karn"
पानी से पानी पर लिखना
पानी से पानी पर लिखना
Ramswaroop Dinkar
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
धर्म जब पैदा हुआ था
धर्म जब पैदा हुआ था
शेखर सिंह
जीवन में ईनाम नहीं स्थान बड़ा है नहीं तो वैसे नोबेल , रैमेन
जीवन में ईनाम नहीं स्थान बड़ा है नहीं तो वैसे नोबेल , रैमेन
Rj Anand Prajapati
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
और कितना मुझे ज़िंदगी
और कितना मुझे ज़िंदगी
Shweta Soni
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
वो मिलकर मौहब्बत में रंग ला रहें हैं ।
Phool gufran
बचपन
बचपन
Vedha Singh
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
हमे निज राह पे नित भोर ही चलना होगा।
हमे निज राह पे नित भोर ही चलना होगा।
Anamika Tiwari 'annpurna '
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Chahat
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
Loading...