Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 1 min read

विचारों की अधिकता लोगों को शून्य कर देती है

हम अक्सर कितना आगे बढ़ जाते है
जहां न तो दुख की अनुभूति होती है
ना ही सुख का आनंद

जीवन में चाह (आकांक्षाएं) समय के
साथ बदलती रहती है नही बदल पाता लोगों का
आचरण

जीवन में व्यक्ति का सरल होना सबसे कठिन कार्य है

एक समय बाद सारी समझ विचारों ,दुख ,हर्ष
आदि से ऊपर उठ जाते है

और विचारों की अधिकता की वजह से हम
शून्य हो जाते है

जहां कुछ न खोने का अधिक दुख होता है
ना ही मिलने की खुशी

और मुझे लगता है की शून्य होना ही
संसार की सबसे बड़ी उपलब्धि है

जहां आदमी स्वयं से मिल जाता है
और स्वयं में हर समय खुश रहता है

जहां हर कार्य निः स्वार्थ भाव से होता है
किसी से कोई अपेक्षा नही रह जाती

Language: Hindi
Tag: लेख
110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
बिन बोले सुन पाता कौन?
बिन बोले सुन पाता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
मेरे राम
मेरे राम
Prakash Chandra
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
*सड़क पर मेला (व्यंग्य)*
*सड़क पर मेला (व्यंग्य)*
Ravi Prakash
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गीतिका...
गीतिका...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
विचार
विचार
आकांक्षा राय
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खून की श्येयाही
खून की श्येयाही
Anurag pandey
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
जनता के आवाज
जनता के आवाज
Shekhar Chandra Mitra
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
तितली तेरे पंख
तितली तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
हम जंग में कुछ ऐसा उतरे
Ankita Patel
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
विश्व पुस्तक मेला, दिल्ली 2023
Shashi Dhar Kumar
2536.पूर्णिका
2536.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
फिर जीवन पर धिक्कार मुझे
फिर जीवन पर धिक्कार मुझे
Ravi Yadav
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...