Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 3 min read

वह

बहुत कुछ बदल चुका है
पर क्यों लगता है कि तुम हो यही कहीं
कुछ सालों पहले सब ठीक ही तो था फिर क्या बदल गया?
क्या हो गया था ऐसा कि तुम, तुम ना रही।
आखिरी मुलाकात में कहा था तुमने की जब भी जरूरत हो बुला लेना फिर क्यों नहीं बुलाया?

शराब नही उतरी कल की,दोस्त ने चिल्लाते हुए कहा,
लेकिन तब तक आधा शरीर गीला हो चुका था।
ऑफिस की तैयारी के बीच ऋतिक के सवाल बस चलते रहे लेकिन upsc वाले दोस्त का सिवाए hmmm के कोई उत्तर नहीं।

रास्ते में,
जाते हुए अचानक एक आवाज जानी पहचानी सुनाई दी और मोटरसाइकिल रूक गई।
ऋतिक,निहारिका को देखते रहा बस। फिर अचानक से बोल पड़ा।
निहारिका इतनी जोर से क्यो आवाज दी!
क्योंकि तुम रुक जाओ और ऑफिस तक ले चलो।
मोटरसाइकिल चल दी और ऑफिस पहुंच के काम मे लग गए।
रात के समय ऋतिक का संवाद कुछ हद तक जैसे खुद से ही संवाद करने में व्यस्त दिखाई दे रहा था।

क्यू रोक लेती हो निहारिका मुझे , काफ़ी जगह रहती है मोटरसाइकिल मे हम दोनों के बीच लेकिन तुम ,तुम उस जगह को खाली नहीं रहने देती, सब कुछ जानते हुए भी,मत आया करो इतने पास,स्पर्श तुम्हारा मुझे उसकी याद दिलाता है, लेकिन तुम नही समझती हो ,डर लगता है मुझे , अगर उसने कभी हम दोनो को ऐसे देख लिया तो क्या सोचेगी वो,
फिर अचानक से आवाज
क्या उसने देख लिया है? नहीं नहीं नहीं
छोड़ो मुझे,छोड़ो,जाने दो मुझे उसके पास,
ये सुनामी कैसे आ गई!!

जब तक ऋतिक कुछ समझ पाता तब तक आधा शरीर पानी से गीला हो चुका था और ऋतिक का दोस्त उसको चिल्लाता हुआ, साले कब ठीक होगा तू, कितनी बार समझा चुका हूं मेरी नींद क्यों खराब करता है!
चल अब उठ और सोने दे मुझे।

फिर वही मशीनी तैयारी के साथ ऋतिक ऑफिस को जाने वाला होता ही है कि……
ऋतिक ने upsc की तैयारी करने वाले दोस्त से पूछा, क्या सुबह के सपने सच होते है?
दोस्त जानता था कि ऐसे सवाल क्यों पूछे जा रहे है,
पता नहीं अगर होते भी हैं तो तुम अच्छा सपना देखा करो।
मगर अच्छे सपने आते कैसे है?
यह तो नहीं पता ऋतिक लेकिन अच्छा देखने से अच्छे सपने आ सकते है शायद।
तो अच्छा देखना क्या होता हैं?
भाई मेरे, तुम्हे ऑफिस को देरी हो रही है,जाओ जल्दी निहारिका इंतजार कर रही होगी,जल्दी जाओ।
भागता हुआ ऋतिक ऑफिस के लिए निकल पड़ता हैं।

रास्ते मे आज,ना निहारिका थी ना ही वह आवाज जो बीच रास्ते में ऋतिक को रोक लेती थी, ऋतिक ऑफिस मे निहारिका को यहां से वहां ढूंढता रहता है लेकिन कहीं भी निहारिका नहीं मिलती है और फिर निहारिका को कॉल
करने पर भी उत्तर नहीं मिलता हैं,
उदास मन से लेकिन वापिस रास्ते में एक चाह से बस निहारिका के बारे में सोचता ही कि अचानक निहारिका उसी जगह खड़ी मिलती है हर रोज की तरह
लेकिन इस बार पूरे अलग लिबास मे,
मोटरसाइकिल किनारे लगा कर,
बहुत होटों को काबू किए लेकिन फिर बोल ही पड़ता है,
तुम क्यों नही आई आज ऑफिस।कितना परेशान हुआ आज। तुम्हें सोचना चाहिए था लेकिन तुम भी ऐसा करोगी तो मैं कैसे जा पाऊंगा हर रोज ऑफिस! निहारिका कुछ बोलो तो सही,यही वो जगह है जहां हर रोज तुम मिलती हो, हर रोज आवाज़ देकर रोक लेती हो मुझे लेकिन आज क्यों नहीं आई तुम,क्या मैं रुकता नहीं तुम्हारे लिए,हर रोज ले जाता हूं ऑफिस,कितनी बार लेट हुआ हूं तुम्हारे कारण लेकिन कभी भी कुछ कहा हो तुम्हें!

एक आवाज़ अचानक से,

भाई मोटरसाइकिल को आगे बढ़ाओ, दिखता नहीं तुम्हें कितना ट्रैफिक हो चुका है तुम्हारे कारण!

हां तो ,

तुम्हें नहीं दिखता कितनी ज़रूरी बात कर रहा हूं।
तो बात किससे कर रहे हो वो भी तो दिखे
आंखों को सही करो अपनी,ऋतिक जोर से बोलता है,दिखाई नहीं देता क्या तुमको? इतनी सुंदर,सुशील लड़की मेरे सामने खड़ी है,आंखे हैं या बटन!!
तुम्हारी आंखे बटन होगी मेरी तो आंखे ही हैं।
तुम क्यों ध्यान दे रही हो उस पर,तुमसे बातें कर रहा हूं,बताओ भी अब क्यों नहीं आई आज,क्यों!!

ये बटन पर पानी कैसा आ रहा हैं,लगता है फिर से सुनामी आ गई।
ऋतिक जब तक कुछ समझ पाता तब तक आधा शरीर गीला हो चुका था, दोस्त चिल्लाता हुआ साले कब ठीक होगा तू , कितनी बार समझा चुका हूं,मेरी नींद क्यों खराब करता है!
चल अब उठ और सोने दे मुझे।

Language: Hindi
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कोई मंझधार में पड़ा है
कोई मंझधार में पड़ा है
VINOD CHAUHAN
।। सुविचार ।।
।। सुविचार ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
मनुष्य और प्रकृति
मनुष्य और प्रकृति
Sanjay ' शून्य'
2903.*पूर्णिका*
2903.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आ..भी जाओ मानसून,
आ..भी जाओ मानसून,
goutam shaw
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
ग्रहस्थी
ग्रहस्थी
Bodhisatva kastooriya
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
surenderpal vaidya
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
लेंगे लेंगे अधिकार हमारे
लेंगे लेंगे अधिकार हमारे
Rachana
■ अपनी-अपनी मौज।
■ अपनी-अपनी मौज।
*प्रणय प्रभात*
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संतोष करना ही आत्मा
संतोष करना ही आत्मा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
धन तो विष की बेल है, तन मिट्टी का ढेर ।
sushil sarna
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उम्र के हर पड़ाव पर
उम्र के हर पड़ाव पर
Surinder blackpen
डगर जिंदगी की
डगर जिंदगी की
Monika Yadav (Rachina)
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
सारथी
सारथी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"You’re going to realize it one day—that happiness was never
पूर्वार्थ
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
तुझसे यूं बिछड़ने की सज़ा, सज़ा-ए-मौत ही सही,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
Loading...