Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2023 · 1 min read

वक्त से पहले..

वक्त से पहले खुद से ज्यादा
क्या कभी मिला किसी को
फिर तू क्यों परेशान है
मजबूत रख अपना इरादा ।

तेरा तुझको मिल जाएगा
कर्म की ना हो उसमें बाधा
सीप से मोती चुनता जा
नहीं राह तू चलता जा ।

मंजिल तेरी तुझको मिल जाएगी
नहीं राह जीवन की खुल जाएगी
अभिमान ना कर कभी खुद पर
एक दिन शोहरत तुझको मिल जाएगी ।

2 Likes · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कितने छेड़े और  कितने सताए  गए है हम
कितने छेड़े और कितने सताए गए है हम
Yogini kajol Pathak
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
ऐ भगतसिंह तुम जिंदा हो हर एक के लहु में
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
उसकी दोस्ती में
उसकी दोस्ती में
Satish Srijan
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
स्कूल कॉलेज
स्कूल कॉलेज
RAKESH RAKESH
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
सोचो अच्छा आज हो, कल का भुला विचार।
आर.एस. 'प्रीतम'
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अब तो इस राह से,वो शख़्स गुज़रता भी नहीं
अब तो इस राह से,वो शख़्स गुज़रता भी नहीं
शेखर सिंह
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे  दिया......
अच्छा ही हुआ कि तुमने धोखा दे दिया......
Rakesh Singh
2949.*पूर्णिका*
2949.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
....प्यार की सुवास....
....प्यार की सुवास....
Awadhesh Kumar Singh
ज़िंदगी फिर भी हमें
ज़िंदगी फिर भी हमें
Dr fauzia Naseem shad
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"मंजिलें"
Dr. Kishan tandon kranti
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
आज मानवता मृत्यु पथ पर जा रही है।
पूर्वार्थ
Loading...