Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।

वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।

2 Likes · 254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
Ravi Prakash
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
कवि रमेशराज
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
Ranjeet kumar patre
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
*यदि उसे नजरों से गिराया नहीं होता*
sudhir kumar
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
"प्यासा"के गजल
Vijay kumar Pandey
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
मंगलमय हो आपका विजय दशमी शुभ पर्व ,
Neelam Sharma
*
*"पापा की लाडली"*
Shashi kala vyas
Your Secret Admirer
Your Secret Admirer
Vedha Singh
राजा रंक फकीर
राजा रंक फकीर
Harminder Kaur
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
दीप जलाकर अंतर्मन का, दीपावली मनाओ तुम।
आर.एस. 'प्रीतम'
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
गुमनाम 'बाबा'
रुख़्सत
रुख़्सत
Shyam Sundar Subramanian
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
*जंगल की आग*
*जंगल की आग*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
3164.*पूर्णिका*
3164.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
अध्यात्म
अध्यात्म
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ सीधी सपाट...
■ सीधी सपाट...
*प्रणय प्रभात*
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
तोहमतें,रूसवाईयाँ तंज़ और तन्हाईयाँ
Shweta Soni
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
युद्ध के बाद
युद्ध के बाद
लक्ष्मी सिंह
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
मिथकीय/काल्पनिक/गप कथाओं में अक्सर तर्क की रक्षा नहीं हो पात
Dr MusafiR BaithA
Loading...