Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2023 · 1 min read

वक्त को यू बीतता देख लग रहा,

वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
कही वक्त के साथ हम भी ना भीत जाए।।

2 Likes · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धर्म को
धर्म को "उन्माद" नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
संगिनी
संगिनी
Neelam Sharma
ससुराल का परिचय
ससुराल का परिचय
Seema gupta,Alwar
वृंदावन :
वृंदावन :
Ravi Prakash
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
Subhash Singhai
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
Ranjeet kumar patre
आई होली आई होली
आई होली आई होली
VINOD CHAUHAN
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
मुझमें भी कुछ अच्छा है
मुझमें भी कुछ अच्छा है
Shweta Soni
💝एक अबोध बालक💝
💝एक अबोध बालक💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
विश्वास
विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नैन
नैन
TARAN VERMA
💐प्रेम कौतुक-239💐
💐प्रेम कौतुक-239💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2244.
2244.
Dr.Khedu Bharti
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
नई तरह का कारोबार है ये
नई तरह का कारोबार है ये
shabina. Naaz
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
सुलगते एहसास
सुलगते एहसास
Surinder blackpen
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
Loading...