Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2023 · 1 min read

वक़्त होता

ये जवां खुद में है, हमेशा से ।
वक़्त होता, ज़ईफ़ थोड़ी है ।।

डान फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
VINOD CHAUHAN
इतना तो अधिकार हो
इतना तो अधिकार हो
Dr fauzia Naseem shad
हटा लो नजरे तुम
हटा लो नजरे तुम
शेखर सिंह
*
*"मां चंद्रघंटा"*
Shashi kala vyas
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
दोस्त मेरे यार तेरी दोस्ती का आभार
Anil chobisa
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
बाल कविता: नदी
बाल कविता: नदी
Rajesh Kumar Arjun
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
तेरी चौखट पर, आये हैं हम ओ रामापीर
gurudeenverma198
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
बात ! कुछ ऐसी हुई
बात ! कुछ ऐसी हुई
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
वृंदावन की कुंज गलियां
वृंदावन की कुंज गलियां
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
जिनके जानें से जाती थी जान भी मैंने उनका जाना भी देखा है अब
Vishvendra arya
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)
*होली : तीन बाल कुंडलियाँ* (बाल कविता)
Ravi Prakash
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
यह सुहाना सफर अभी जारी रख
Anil Mishra Prahari
फूलन देवी
फूलन देवी
Shekhar Chandra Mitra
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
मुझे तुझसे महब्बत है, मगर मैं कह नहीं सकता
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
इस दुनियां में अलग अलग लोगों का बसेरा है,
Mansi Tripathi
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...