Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2018 · 1 min read

बंशीधर श्याम

आन बसो मेरे नयन, हे बंशीधर श्याम।
नैना बरसत हर घड़ी, लेकर तेरा नाम।। १

माँझी बनकर श्याम जी, भव से पार उतार।
मैं हूँ तेरी सांवरे, सुन लो हृदय पुकार।। २

मोर मुकुट तन काछनी, घुँघराले से केश।
गिरधर मीरा को मिले, धर नटवर का वेष।। ३

ढूंढ़ रही मैं सांवरा,धर कर जोगन वेश।
ढूंढ़-ढूंढ़ कर युग गया, श्वेत हो गये केश।। ४

होठ लगाई बाँसुरी, ठहर गया बृजधाम।
लगी थिरकने राधिका, मुस्काते घन- श्याम।। ५

कर देती बेचैन है, बंसी तेरी श्याम।
रोम-रोम में भर गया, केवल तेरा नाम।। ६

हुई दिवानी बावली, सुन बंसी की तान।
कृष्णा तेरी बाँसुरी, लेगी मेरी जान।।७

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आँखों से रिसने लगे,
आँखों से रिसने लगे,
sushil sarna
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
*सौभाग्य*
*सौभाग्य*
Harminder Kaur
..
..
*प्रणय प्रभात*
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
3513.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3513.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
साक्षात्कार - पीयूष गोयल
साक्षात्कार - पीयूष गोयल
Piyush Goel
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
अजब है इश्क़ मेरा वो मेरी दुनिया की सरदार है
Phool gufran
🤔🤔🤔
🤔🤔🤔
शेखर सिंह
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
जय श्रीकृष्ण -चंद दोहे
Om Prakash Nautiyal
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
*कोई मंत्री बन गया, छिना किसी से ताज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सुन्दर तन तब जानिये,
सुन्दर तन तब जानिये,
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
कल और आज जीनें की आस
कल और आज जीनें की आस
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
क्या से क्या हो गया देखते देखते।
सत्य कुमार प्रेमी
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
"तब पता चलेगा"
Dr. Kishan tandon kranti
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...