Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

वंदेमातरम

अब आज निभाई है किसी ने,शौर्य सम्पदा की गाथा!
अब हर भारतवंशी टेकेगा भारत मा के चरणो मे माथा!!
हम सनातन संस्कँति के रखवाले क्यू यह अपमान सहे?
चँदन-वंदन से सुप्रभात,राम-कृष्ण के आगे टेकै माथा!!
“वंदेमातरम” की गूज अब हर गली-मौहल्लौ मे गूजेगी!
“वसुधैव कुटुम्कम” के स्वर से ही चौडा हो जाए माथा!!
अपनै भीतर का ब्रह्म जगाओ,कहँ| खो गया इतिहास?
तुम्हारे पूर्वज थे सनातन अनुयायी,तो झुक जाए माथा!!

सर्वाधिकार सुरछित मौलिक रचना
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट ,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुज,सिकन्दरा,आगरा-282007
,9412443093

2 Likes · 450 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
वेलेंटाइन डे शारीरिक संबंध बनाने की एक पूर्व नियोजित तिथि है
Rj Anand Prajapati
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
कैसे भूले हिंदुस्तान ?
Mukta Rashmi
भागमभाग( हिंदी गजल)
भागमभाग( हिंदी गजल)
Ravi Prakash
समस्याओं से तो वैसे भी दो चार होना है ।
समस्याओं से तो वैसे भी दो चार होना है ।
Ashwini sharma
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
*प्रणय प्रभात*
कर रही हूँ इंतज़ार
कर रही हूँ इंतज़ार
Rashmi Ranjan
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
*अवध  में  प्रभु  राम  पधारें है*
*अवध में प्रभु राम पधारें है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
3020.*पूर्णिका*
3020.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्यो नकाब लगाती हो
क्यो नकाब लगाती हो
भरत कुमार सोलंकी
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
ज़िंदगी से गिला
ज़िंदगी से गिला
Dr fauzia Naseem shad
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
लाख़ ज़ख्म हो दिल में,
पूर्वार्थ
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
वाणी और पाणी का उपयोग संभल कर करना चाहिए...
Radhakishan R. Mundhra
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
वसंत ऋतु
वसंत ऋतु
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
है शारदे मां
है शारदे मां
नेताम आर सी
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...